Menu
blogid : 26149 postid : 3213

हर 40 सेकेंड में आत्महत्या कर रहा एक शख्स, WHO ने बताए सुसाइड के ख्याल से बचने के तरीके

Rizwan Noor Khan

10 Sep, 2020

कुछ सालों में सुसाइड केस अचानक बढ़ने से चिकित्सा विशेषज्ञों ने चिंता जाहिर की है। विशेषज्ञों का मानना है कि लोगों में कम होती सहनशीलता और सही मार्गदर्शन नहीं मिलने से लोग आत्महत्या जैसे जघन्य पाप की ओर बढ़ जाते हैं। ऐसे लोग छोटी सी कठिनाई को भी बढ़ा मानकर सुसाइड को ही अंतिम उपाय समझने लगते हैं। जबकि, दुनिया में ऐसी कोई भी परेशानी या कठिनाई नहीं है जो साझा करने से हल न हो सके।

Symbolic Image courtesy : REUTERS

हर 40 सेकेंड में एक सुसाइड
विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन WHO की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक हर 40 सेकेंड में एक व्‍यक्ति सुसाइड कर लेता है। रिपोर्ट के मुताबिक भारी तनाव और डिप्रेशन में आकर लोग आत्मघाती कदम उठा लेते हैं। आत्महत्या को आखिरी हल मानने वाले वो लोग होते हैं जो लंबे समय से अकेले और सामाजिक या आंतरिक दबाव में रह रहे होते हैं।

सालाना 8 लाख लोग करते हैं आत्महत्या
विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के डाटा के मुताबिक दुनियाभर में हर साल 8 लाख से भी ज्‍यादा लोग जिंदगी से हारकर सुसाइड कर लेते हैं। मनोचिकित्सक मानते हैं कि कम समय में ज्यादा महत्वाकांक्षा और दबाव के चलते लोग आत्महत्या को अंतिम रास्ता मान बैठते हैं। ऐसे लोगों की नियमित काउंसलिंग करने से उन्हें ऐसा करने से रोका जा सकता है।

सुसाइड पर खुले तौर से बात करें
WHO विशेषज्ञ मानते हैं कि सुसाइड की बढ़ती संख्‍या को कम करने के लिए लोगों को इस पर खुले तौर पर बात करनी चाहिए। जबकि, ज्यादातर लोग सुसाइड को लेकर पब्लिकली बात नहीं करते हैं। कोई केस सामने आने पर चुप नहीं रहना चाहिए, बल्कि इससे होने वाले भारी नुकसान और अनमोल जिंदगी की अहमियत के बारे में बात करनी चाहिए।

Graph courtesy : WHO

तनाव में रहने वालों पर निगरानी रखें
डॉक्टरों के मुताबिक कई बार आपका दोस्‍त अकेलेपन और तनाव में रहते रहते अचानक सुसाइड कर लेता और आप अफसोस के सिवा कुछ कर नहीं पाते। इसलिए ऐसे लोगों से बात करें और उन्‍हें परेशानियों से निकलने के दूसरे रास्‍तों, विकल्‍पों के बारे में बताएं। ज्‍यादा परेशानी दिखे तो उसे काउंसलिंग सेंटर ले जाएं या सुसाइड प्रिवेंशन हेल्पलाइन नंबर 09152987821 पर कॉल करें।

Graph courtesy : WHO

80 देशों ने बचाव रणनीति बनाई
सुसाइड केस कम करने के लिए दुनियाभर के 38 देशों ने इसके लिए राष्‍ट्रीय स्‍तर बचाव रणनीति बनाई है। जबकि 80 देशों ने सुसाइड केस कम करने के लिए तनावग्रस्‍त लोगों पर निगरानी रखने के लिए रजिस्‍ट्रेशन प्रकिया समेत डाटा बैंक तैयार किया है। ताकि ऐसे लोगों के बारे में समय समय पर जानकारी ली जा सके और उन्‍हे सुसाइड से बचाया जा सके।…NEXT

 

Read more:  120 करोड़ लोगों पर मंडरा रहा घर छोड़ने का संकट

ऐसा गांव जहां पेड़ों पर लग रही क्लास, टहनियों पर बैठकर पड़ते हैं बच्चे

50 साल से विलुप्त गीत गुनगुनाने वाला डॉग वापस लौटा

नासा के रिटायर टेलीस्कोप से खगोल विज्ञानियों ने 50 नए ग्रह खोजे

पूरे महाद्वीप से खत्म हो गया खतरनाक वायरस पर पाकिस्तान और अफगानिस्तान से नहीं

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *