Menu
blogid : 26149 postid : 4030

नदी के गर्म होने से मर रहीं दुर्लभ मछलियां, कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचाने वाली प्रजाति खतरे में

कैंसर, दिमाग और दिल की खतरनाक बीमारियों को ठीक करने में मददगार दुर्लभ और कीमती मछली सेल्मन के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। कोलंबिया नदी के अत्यधिक गर्म पानी की वजह से यह मछलियां खुद गंभीर बीमारी का शिकार होकर मर रही हैं। पर्यावरणविद और जीव विज्ञानियों ने चेतावनी दी है कि जल्द ही समाधान नहीं ढूंढा गया तो नदी से खत्म हो सकती है पूरी प्रजाति।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 12 Aug, 2021

 

 

कोलंबिया नदी के गर्म होने से संकट-  
समंदर और ताजे पानी में पाई जाने वाली सेल्मन प्रजाति की सॉकी सेल्मन फिश उत्तरी अमेरिका महाद्वीप में बहने वाली कोलंबिया नदी में अपने अस्तित्व को बचाने के लिए संघर्ष कर रही है। अल जजीरा की रिपोर्ट के अनुसार कोलंबिया नदी का पानी अत्यधिक गर्म होने की वजह से मछलियां गंभीर बीमारी की चपेट में आकर मर रही हैं।

बांध में रुकने से गर्म हो रहा पानी-  
कोलंबिया नदी में बड़े पैमाने पर सॉकी सेल्मन फिश पाई जाती हैं। बीते कुछ वक्त से जलवायु परिवर्तन होने और जगह-जगह नदी पर बने बांधों में पानी रुके रहने की वजह से गर्म हो जा रहा है। पानी के गतिमान नहीं रहने की स्थिति में यह और तेजी से गर्म हो रहा है। पानी के गर्म होने से मछलियों की स्किन फंगस लगने के बाद सढ़ जा रही है, जो उनके मरने की वजह बन रही है।

सेल्मन फिश की प्रजाति को खतरा-  
रिपोर्ट के अनुसार जुलाई में मछलियों के तेजी से मरने की जांच में पाया गया कि अत्यधिक गर्म पानी की वजह से मछलियों की स्किन में घाव हो रहे हैं और पंखे सढ़ रहे हैं। 16 जुलाई को एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें मछलियों की दर्दनाक स्थिति में देखी जा सकती है। जीवविज्ञानियों ने नदी में मछलियों के जीवन को संकट बताया है।

 

 

कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में मददगार-  
सेल्मन फिश की मुख्य रूप से 6 प्रजातियां पाई जाती हैं। सेल्मन फिश में अत्यधिक ओमेगा-3 की मात्रा और प्रोटीन होने की वजह से इसका सेवन कई गंभीर बीमारियों से बचाता है। रिपोर्ट के अनुसार इसे दिल की बीमारी, कैंसर, दिमाग मजबूत करने, इम्यूनिटी बढ़ाने और वजन कम करने के लिए खूब खाया जाता है। भारत में यह 500 से 1500 रुपये प्रति किलो तक की कीमत में मिल जाती है।

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *