Menu
blogid : 26149 postid : 3694

रोबोट के गाने-बजाने की खूबी ने बनाया रॉक बैंड का मेंबर, ऑनलाइन शो में परफॉर्मेंस से हुआ मशहूर

Rizwan Noor Khan

5 Feb, 2021

दुनिया तेजी से गैजेट्स के इस्‍तेमाल की ओर बढ़ती जा रही है। मानव ने अपने कामकाज को आसान बनाने के लिए मशीनों के साथ-साथ रोबोट भी बना लिए हैं। अब तक दुनियाभर में कई तरह की स्किल्‍स से लैस रोबोट बनाए जा चुके हैं, लेकिन रॉक बैंड में शामिल हुए एक रोबोट की चर्चा इन दिनों पूरी दुनिया में हो रही है। दरअसल, यह रोबोट मानव की तरह गीत गाने और गिटार समेत कई तरह के इंस्‍ट्रूमेंट बजाने में सक्षम है।

Robby Megabyte Robot. Video grab courtesy- Reuters

बोस्निया के रॉक बैंड में शामिल है रोबोट
यूरोपियन देश बोस्निया के सबसे मशहूर रॉक बैंड दुबीओजा कोलेकतिव अपने एक खास मेंबर की वजह से सुर्खियों में है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार रॉक बैंड का यह नया मेंबर कोई ह्यूमन नहीं बल्कि रॉबी मेगाबाइट नाम का मानवीय रोबोट है। यह रोबोट अपनी सिंगिंग और म्‍यूजि‍कल इंस्‍ट्रूमेंट बजाने की काबिलियत की वजह से दुनियाभर में मशहूर हो चुका है।

Robby Megabyte Robot. Video grab courtesy- Reuters

वीडियो में दी परफॉर्मेंस
कोरोना महामारी के दौरान यह रोबोट रॉकबैंड का हिस्‍सा बना। रॉबी रोबोट को ऑनलाइन म्‍यूजिकल क्‍वैरेंटीन शो में शामिल किया गया। इसे 2020 में रिलीज जुए एक वीडियो #फेकन्‍यूज एलबम (#fakenews) में भी परफॉर्म करते दिखाया गया। रॉबी रोबोट को डिजाइन कराने में शामिल रहे रॉक बैंड के बेस गिटार प्‍लेयर वेदरान मुजागिक के मुताबिक रॉबी गाने के अलावा कई तरह म्‍यूजिकल इंस्‍ट्रूमेंट बजा सकता है।

Robby Megabyte Robot. Video grab courtesy- Reuters

रोबोट बनाने में दो साल लगे
साराजेवा यूनिवर्सिटी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग स्‍कूल के छात्रों के एक दल ने मिलकर रॉबी मेगाबाइट रोबोट को विकसित किया है। दल के सदस्‍य अलमीर बेसिक के मुताबिक रोबोट को बनाने में पुराने सामान को रिसाइकिल कर इस्‍तेमाल किया गया है। रोबोट को चलाने के लिए बच्‍चों की साइकिल के पहियों का उपयोग किया गया है। रॉबी मेगाबाइट रोबोट को बनाने में दो साल का वक्‍त लगा है।

 

 

Read more: जू में खांसते मिले वनमानुष कोरोना पॉजिटिव निकले

दो जीराफ ने दुनियाभर के पशुविज्ञानियों की नींद उड़ाई

500 कौवों की मौत के बाद 4 प्रदेशों में अलर्ट

दो जीराफ ने दुनियाभर के पशुविज्ञानियों की चिंता बढ़ाई

सबसे ज्यादा विश्व की ऐतिहासिक धरोहरें इस देश में, जानें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *