Menu
blogid : 26149 postid : 264

रानी लक्ष्‍मीबाई ने नहीं करने दिया झांसी पर कब्‍जा, अंग्रेज जनरल मानता था खतरनाक

Shilpi Singh

18 Jun, 2018

रानी लक्ष्मीबाई ने पुरुषों के वर्चस्व वाले काल में अपने राज्य की कमान संभालते हुए अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए थे। उन्‍होंने अपने जीते जी अंग्रेजों को झांसी पर कब्जा नहीं करने दिया। अंग्रेज भी उनकी वीरता के कायल थे। उनकी वीरता के लिए ही कहा जाता है… खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी। आज ही रानी लक्ष्‍मीबाई की पुण्यतिथि है, इस खास दिन पर आइये जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें।

 

ranilakshmibai

 

बाजीराव के दरबार में किया सबको प्रभावित

लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी के भदैनी में हुआ था। उनकी मां का नाम भागीरथी बाई तथा पिता का नाम मोरोपन्त तांबे था। लक्ष्‍मीबाई का बचपन का नाम मणिकर्णिका था। प्यार से उन्हें मनु पुकारा जाता था। मोरोपन्त एक मराठी थे और मराठा बाजीराव की सेवा में थे। मनु जब चार वर्ष की थीं, तभी उनकी मां की मृत्यु हो गई। इसके बाद मोरोपन्त तांबे उनको अपने साथ बाजीराव के दरबार में ले गए, जहां चंचल और सुन्दर मनु ने सबको प्रभावित किया।

 

rani laxmibai

 

ऐसे बनीं झांसी की रानी

सन् 1842 में मनु का विवाह झांसी के मराठा शासक राजा गंगाधर राव निम्बालकर के साथ हुआ। इसके बाद वे झांसी की रानी कहलाने लगीं। विवाह के बाद उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सन् 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक पुत्र को जन्म दिया पर चार महीने की आयु में ही उसकी मृत्यु हो गई। सन् 1853 में राजा गंगाधर राव का स्वास्थ्य बहुत अधिक बिगड़ जाने पर उन्हें दत्तक पुत्र लेने की सलाह दी गई। पुत्र गोद लेने के बाद 21 नवंबर, 1853 को राजा गंगाधर राव की भी मृत्यु हो गई। लक्ष्मीबाई के दत्तक पुत्र का नाम दामोदर राव रखा गया।

 

laxmibai

 

तात्या टोपे के साथ मिलकर लड़ीं

इसके बाद झांसी को कमजोर होता देख 1857 में पड़ोसी राज्य ओरछा तथा दतिया के राजाओं ने आक्रमण कर दिया, लेकिन रानी ने उन्‍हें विफल कर दिया। 1858 के जनवरी में ब्रिटिश सेना ने झांसी की ओर बढ़ना शुरू कर दिया और मार्च के महीने में शहर को घेर लिया। झांसी के किले में रसद व युद्ध सामग्री खत्म होते देख रानी ने समर्पण की जगह जंग को जारी रखने के लिए दामोदर राव के साथ कालपी की ओर कूच किया। वहां बिठूर से भागे नाना साहब पेशवा और तात्या टोपे के नेतृत्व में बागियों की फौज ने किले पर कब्जा कर डेरा डाल लिया था। वहां से विद्रोहियों ने ग्वालियर आकर वहां के नाबालिग सिंधिया राजा से धन व दूसरे युद्ध संसाधन वसूलकर अंग्रेजों से जंग की तैयारी कर ली। तात्या टोपे और रानी लक्ष्मीबाई की संयुक्त सेनाओं ने ग्वालियर के विद्रोही सैनिकों की मदद से ग्वालियर के एक किले पर कब्जा कर लिया। 18 जून, 1858 को ग्वालियर के पास कोटा की सराय में ब्रिटिश सेना से लड़ते-लड़ते रानी लक्ष्मीबाई ने वीरगति हासिल की।

 

rani lakshmibai

 

सबसे खतरनाक थीं रानी लक्ष्मीबाई

इस लड़ाई को लेकर ब्रिटिश जनरल ह्यूरोज ने टिप्पणी की थी कि रानी लक्ष्मीबाई अपनी सुंदरता, चालाकी और दृढ़ता के लिए तो उल्लेखनीय थीं ही, विद्रोही नेताओं में सबसे अधिक खतरनाक भी थीं। दरअसल, रानी लक्ष्मीबाई झांसी से कालपी होते हुए दूसरे विद्रोहियों के साथ ग्वालियर आ गई थीं। हालांकि, कैप्टन ह्यूरोज की युद्ध योजना के चलते ही वे घिर गईं।…Next

 

 

Read More:

विराट कोहली तो नहीं लेकिन ये खिलाड़ी करवा चुके हैं बालों और पैरों का बीमा

कभी मॉडलिंग करते थे संत भैय्यूजी महाराज, कर चुके हैं दो शादियां

कुछ ऐसे हुई थी कोका कोला और मैकडोनाल्ड की शुरुआत, दिलचस्प है कहानी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *