Menu
blogid : 26149 postid : 2813

पाकिस्तान में कैद हाथी ने कोर्ट से जीत ली आजादी की लड़ाई, अब कंबोडिया के जंगलों में स्वतंत्र जिएगा

Rizwan Noor Khan

22 Jul, 2020

 

 

पाकिस्तान के चिड़ियाघर में अकेले मुश्किल जिंदगी गुजार रहे में 35 साल के हाथी कावान को आजादी हासिल हो गई है। उसकी आजादी के लिए इस्लामाबाद हाईकोर्ट को दखल देना पड़ा। कोर्ट के आदेश के बाद उसे कंबोडिया के वाइल्ड लाइफ अधिकारियों को सौंप दिया गया है। बता दें कि हाथी की सही देखभाल नहीं होने और उसे जंजीरों में जकड़े रखने का मामला पूरी दुनिया में लंबे समय से छाया हुआ था।

 

 

 

 

1985 में श्रीलंका से आया था पाकिस्तान
इस्लामाबाद स्थित मरगजर चिड़ियाघर के इकलौते हाथी कावान को 1985 में पाकिस्तान लाया गया था। कावान का जन्म श्रीलंका में हुआ था। उसे श्रीलंका सरकार ने पाकिस्तान के साथ मैत्रीपूर्ण रिश्ते के सिंबल के तौर पर तत्कालीन राष्ट्रपति जनरल जियाउल हक को बतौर उपहार दिया था। तब 1 साल की उम्र के इस हाथी का नाम कावान रखा गया था।  कावान हाथी को पार्टनर के तौर पर 1990 में बांग्लादेश से लाई गई हथिनी मिली। लेकिन, 2012 में हथिनी की मौत के बाद से कावान अकेला हो गया था।

 

 

 

अमेरिकी पॉप सिंगर ने रिहाई के लिए केस किया
मरगजर चिड़ियाघर में रखे गए इस हाथी के साथ उचित व्यवहार नहीं किए जाने और उसे जंजीरों में जकड़े रखने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। चिड़ियाघर में अकेले होने और सही देखभाल नहीं होने की वजह से हाथी कावान की सेहत खराब हो गई थी। हाथी की स्थित पर अमेरिकी पॉप सिंगर चेर ने पशु अधिकारों के तहत कोर्ट में याचिका दायर करते हुए मांग की थी कि तत्काल कावान हाथी को सैंक्चुरी में छोड़ा जाए। उन्होंने कहा था कि हाथी को सही बाड़ा तक नहीं दिया गया और उसे सही भोजन और इलाज भी नहीं मिल पा रहा है।

 

 

अमेरिकी पॉप सिंगर चेर.

 

 

कोर्ट ने मई में दिए थे रिहा करने के आदेश
अलजजीरा की रिपोर्ट के अनुसार पॉप आइकन ने हाथी को रहने के लिए सही जगह उपलब्ध कराने और पाकिस्तान में उसकी हालत को लेकर पूरी दुनिया में कैंपेन चलाया। कई साल तक कानूनी लड़ाई के बाद कोर्ट ने इस्लामाबाद चिड़ियाघर को 21 मई को आदेश दिए थे कि हाथी को रिहा किया जाए। कोर्ट ने कहा था कि चिड़ियाघर प्रशासन श्रीलंका वाइल्डलाइफ के अधिकारियों से बात करके हाथी के लिए 30 दिन के अंदर सही सैंक्चुरी खोज ले।

 

 

 

 

कंबोडिया के जंगलों में आजादी से जिएगा हाथी
गल्फ न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक 35 साल बाद इस्लामाबाद के प्यारे और अकेले हाथी को कंबोडिया के वाइल्डलाइफ अधिकारियों को सौंप दिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक अब कावान हाथी कंबोडिया के 25 हजार एकड़ में फैली सैंक्चुरी में अन्य हाथियों के साथ आजाद जिंदगी बिताएगा। कंबोडिया भारत के बाद एशियाई हाथियों का दूसरा घर माना जाता है।…NEXT

 

 

 

 

Read more:

रोज टूथब्रश नहीं करते हैं तो खतरे में है आपकी जिंदगी, 20 साल की रिसर्च में चौंकाने वाले खुलासे

अश्लील वीडियो देखते हैं तो हो जाएं सावधान, खतरनाक बीमारी की चपेट में आ रहे लोग, रिसर्च में खुलासा

मधुमक्खियों में फैल रही महामारी, रिसर्च में खुलासा- खतरे में हैं दुनियाभर की मधुमक्खियां

दूषित भोजन दे रहा 200 से ज्यादा बीमारियां, कई तो कोरोना से भी खतरनाक

6 करोड़ लोगों पर लटकी गरीबी की तलवार, विश्वबैंक के खुलासे से दुनियाभर में चिंता बढ़ी

35 देश अपने ही बच्चों के भविष्य के लिए खतरा बने, अफगानिस्तान समेत एशिया के कई देश लिस्ट में

पाकिस्तान से 30 साल बाद रिहा होगा एशियाई हाथी, जनरल जियाउल हक को गिफ्ट में मिला था

 

 

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *