Menu
blogid : 26149 postid : 3393

समय से पहले पैदा हो रहा हर दसवां बच्चा, प्रिमैच्योर बेबी के लिए कंगारू मदर केयर सबसे कारगर

Rizwan Noor Khan

17 Nov, 2020

बदलती जीवनशैली और खानपान के तरीकों के चलते समय से पहले बच्चों के पैदा होने के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। प्रिमैच्योर डिलीवरी के चलते जच्चा बच्चा की जिंदगी भी खतरे में रहती है। हर साल बढ़ी संख्या में समय से पहले पैदावारी के चलते नवजात मौत का शिकार हो जा रहे हैं। प्रिमैच्योर बेबी को बचाने के लिए कंगारू मदर केयर तरीका सबसे कारगर बताया गया है।

Image courtesy : WHO

समय से पहले पैदा हो रहे 1.5 करोड़ बच्चे
विश्व स्वास्थ्य संगठन की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में पैदा होने वाला हर दसवां बच्चा प्रिमैच्योर जन्म ले रहा है। आंकड़ों के बताते हैं कि हर साल दुनियाभर में 1.5 करोड़ बच्चे ​समय से पहले पैदा हो रहे हैं। इस वजह से हर साल करीब 10 लाख बच्चों की मौत हो जाती है।

बच्चे को शारीरिक बाधा का खतरा
प्रिमैच्योर डिलीवरी के कारण जच्चा और बच्चा की जिंदगी खतरे में बनी रहती है। ऐसी स्थिति में खर्च का अतिरिक्त बोझ होने के साथ ही अतिरिक्त देखभाल की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा बच्चे को भविष्य में बड़ी बीमारी या किसी अन्य तरह की शारीरिक बाधा का खतरा बना रहता या उन्हें इससे जूझना पड़ता है।

हर साल 10 लाख बच्चों की मौत
रिपोर्ट के अनुसार समय से पहले पैदा हुए बच्चों में उपजी समस्या 5 साल ​तक के बच्चों की मौत का बड़ा कारण है। 2015 में दुनियाभर में 10 लाख प्रिमैच्योर बच्चों की मौत दर्ज की गई। सबसे ज्यादा प्रिमैच्योर बच्चों की मौत कम और मध्यम आय वर्ग वाले देशों में होने का खुलासा किया गया है।

Image courtesy : WHO

गलत आदतों या बीमारी से प्रिमैच्योर डिलीवरी
37 सप्ताह से पहले जन्म लेने वाले नवजात को प्रिटर्म बर्थ या प्रिमैच्योर डिलीवरी कहा जाता है। इसके लिए गर्भवती महिला की कोई बीमारी, गलत आदतें वजह हो सकती हैं। ज्यादातर मामलों में गर्भवती के ​डाइबिटिक होने, स्मोक या अल्कोहल का अधिक इस्तेमाल, तनाव, पौष्टिक आहार की कमी या पर्याप्त नींद नहीं लेने की वजह से प्रिमैच्योर डिलीवरी होती है।

Image courtesy : WHO

प्रिमैच्योर डिलीवरी से बचने का तरीका
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रिमैच्योर डिलीवरी से बचने के लिए गर्भावस्था के दौरान चिकित्सक के अनुसार दिनचर्या का पालन करना बेहद जरूरी है। प्रिमैच्योर डिलीवरी के बाद बच्चे की जिंदगी बचाना और उसे सेहतमंद बनाना सबसे बड़ा काम है। चिकित्सकों के मुताबिक कंगारू मदर केयर से बच्चे को स्वस्थ करना आसान है। इससे हर साल 75 फीसदी बच्चों की जान बचाई जा सकती है।

Image courtesy : WHO

कंगारू मदर केयर जान बचाने में कारगर
कंगारू मदर केयर के तहत प्रिमैच्योर बच्चे को मां अपने सीने से चिपकाकर, ढंककर इस तरह रखे जैसे कंगारू पशु अपने बच्चों को ​थैली में रखता है। ऐसा करने से बच्चे को मां की त्वचा से गर्मी मिलने के साथ जीवन जीने की क्षमता विकसित होती है और वह ज्यादा तेजी से स्वस्थ होता है।…NEXT

 

 

Read more: वायरस जनित बीमारी से 4 साल में 50% बढ़ी बच्चों की मौतों

पहले से और जानलेवा हो गई बच्चों की ये बीमारी

स्ट्रोक से 1.45 करोड़ लोगों के अपंग होने का खतरा

5 करोड़ साल पहले जीवित था दुनिया का सबसे बड़ा पक्षी

मिस्र में फिर मिलीं 25 हजार साल से दफन ममी और सोने की मूर्तियां

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *