Menu
blogid : 26149 postid : 3747

सुमात्रा के आसमान में 5 किलोमीटर तक फैली राख ने होश उड़ाए, जानें पूरा मामला

Rizwan Noor Khan

2 Mar, 2021

इंडोनेशिया के सुमात्रा राज्‍य के सिनाबुंग इलाके का नीला आसमान 2 मार्च को अचानक राख के बादलों से घिर गया। जिसने भी यह नजारा देखा उसके होश उड़ गए। आसमान में 5 किलोमीटर ऊंचाई तक फैली राख ने लोगों को चिंता में डाल दिया। दरअसल, सिनाबुंग ज्‍वालामुखी में भयंकर विस्‍फोट के चलते यह हालात बने।

Mount Sinabung Volcano eruption. Image courtesy- Reuters

130 से ज्‍यादा धधक रहे ज्‍वालामुखी
इंडोन‍ेशिया में दुनियाभर से ज्‍यादा ज्‍वालामुखी धधक रहे हैं। रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार इंडोनेशिया में 130 से ज्‍यादा ज्‍वालामुखी जल रहे हैं। यह समय समय पर विस्‍फोट के साथ फटते रहते हैं। लेकिन, 2 मार्च को सुमात्रा राज्‍य के सिनाबुंग पहाड़ के ज्‍वालामुखी में सबसे भयानक विस्‍फोट से लोगों के होश उड़ गए।

2010 के बाद दूसरा बड़ा विस्‍फोट
रिपोर्ट के अनुसार सदियों से खामोश रहे सिनाबुंग ज्‍वालामुखी ने 2010 में विस्‍फोट हुआ था। इसके बाद यह धीरे-धीरे धधकता रहा और अगस्‍त 2020 में भयंकर आवाज के साथ फट गया। इससे काफी दूर तक जमीन दरक गई और लोगों को भारी नुकसान झेलना पड़ा था। तब से सुलग रहा ज्‍वालामुखी 2 मार्च 2021 को अचानक भयंकर विस्‍फोट के साथ फट गया।

Mount Sinabung Volcano eruption. Image courtesy- Reuters

भयंकर आवाज के साथ काला हो गया आसमान
ज्‍वालामुखी का विस्‍फोट इतना ज्‍यादा था कि 5 किलोमीटर ऊंचाई तक आसमान में काली राख के बादल छा गए। गर्म राख की वजह से नीले आसमान में अंधेरा जैसा छा गया। सिनाबुंग ज्‍वालामुखी का यह अब तक का सबसे भयंकर विस्‍फोट बताया जा रहा है। वहीं, इंडोनेशिया के ज्वालामुखी केंद्र ने कहा है कि यह अगस्त 2020 के बाद सिनाबंग ज्‍वालामुखी में पहला बड़ा विस्फोट था।

Mount Sinabung Volcano eruption Indonesia. Image courtesy- Reuters

तस्‍वीरें बयान कर रहीं विस्‍फोट की तीव्रता
रिपोर्ट के अनुसार ज्‍वालामुखी विस्‍फोट से किसी को भी नुकसान नहीं हुआ है। स्‍थानीय अधिकारियों ने बताया कि इलाके में पहले ही अलर्ट जारी किया गया था और सभी लोगों को ज्‍वालामुखी प्रभावित इलाके से 3 किलोमीटर दूर रहने के निर्देश दिए गए हैं। ज्‍वालामुखी विस्‍फोट की तस्‍वीरें भयंकर विस्‍फोट और उसकी तीव्रता की गवाही दे रही हैं।…NEXT

 

Read more: गिद्ध पक्षी के लिए 10 साल बाद दूसरी दवा पर बैन लगा

जू में खांसते मिले वनमानुष कोरोना पॉजिटिव निकले

दो जीराफ ने दुनियाभर के पशुविज्ञानियों की नींद उड़ाई

सबसे ज्यादा विश्व की ऐतिहासिक धरोहरें इस देश में, जानें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *