Menu
blogid : 26149 postid : 3595

देवानंद के मनाने पर फिल्मी गी​त लिखने को राजी हुए थे गोपालदास नीरज, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

मशहूर साहित्यकार गोपालदास नीरज ने एक जमाने में फिल्मकार पृथ्वीराज कपूर के लिए फिल्मी गीत लिखने से मनाकर दिया था। उस वक्त के सुपरस्टार देवानंद के मनाने पर नीरज राजी हुए थे। पद्मश्री समेत कई सम्मान हासिल करने वाले साहित्याकार गोपालदास नीरज की जयंती पर जानते हैं उनकी जिंदगी के बारे में।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 4 Jan, 2021

टाइपिस्ट से साहित्यकार का सफर
उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के पुरावली गांव में 4 जनवरी 1925 को जन्‍मे गोपाल दास नीरज के शुरुआती दिन संघर्ष भरे रहे। उनके बचपन का नाम गोपालदास सक्‍सेना था। जब वह 6 वर्ष के थे तभी पिता का निधन हो गया। खर्च चलाने के लिए गोपालदास को पढ़ाई के दौरान ही इटावा कचहरी में टाइपिस्‍ट का काम करना पड़ा। इस बीच वह कविताएं भी लिखते रहे। कानपुर के डीएवी कॉलेज में भी नौकरी की। इस दौरान उन्‍होंने हिंदी साहित्‍य में मास्‍टर्स की डिग्री भी हासिल की।

19 साल की उम्र में कविता संग्रह
गोपालदास की लेखन के प्रति चाहत ने किशोर उम्र में उन्हें कविता संग्रह का लेखक बना दिया। 1944 में जब गोपालदास 19 साल के थे तब उनका पहला कविता संग्रह ‘संघर्ष’ प्रकाशित हुआ। इसके बाद से साहित्य जगत में वह गोपालदास नीरज के नाम से मशहूर होने लगे। 1946 में दूसरा कविता संग्रह ‘अंर्तध्‍वनि’ प्राकशित हुआ। इसके बाद दो और कविता संग्रह प्रकाशित होते ही वह जाने माने साहित्यकारों की सूची में शामिल हो गए।

पृथ्वीराज कपूर को मना किया
साहित्यजगत में नाम कमाने पर फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोग उनसे फिल्‍मी गीत लिखने की गुजारिश लेकर आने लगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गोपालदास नीरज ने अपनी कविताएं फिल्मों के लिए बिकाऊ नहीं होने की बात कहकर फिल्मकारों को शांत करने की कोशिश की। इस बीच नामचीन फिल्मकार पृथ्‍वीराज कपूर भी गोपाल दास से फिल्मी गीत लिखवाने का प्रस्ताव लेकर मिलने कानपुर पहुंचे। एक कवि सम्‍मेलन के बाद पृथ्‍वीराज कपूर ने गोपाल दास से गीत लिखने का प्रस्‍ताव रखा तो गोपाल दास ने उन्‍हें भी मना कर दिया।

देवानंद के कहने पर राजी हुए
गोपाल दास नीरज के मना करने पर पृथ्‍वीराज कपूर वापस मुंबई लौट गए। जब यह बात सुपरस्टार देवानंद को पता चली तो उन्होंने खुद गोपालदास नीरज से संपर्क किया और मिलने का प्रस्‍ताव रखा। देवानंद के काफी मनाने के बाद गोपाल दास नीरज ने सिर्फ उनकी खातिर फिल्‍मी गीत लिखने की बात कही और एक के बाद एक कई सुपरहिट नगमे लिखे। पृथ्वी राजकपूर की फिल्म मेरा नाम जोकर के लिए ‘ए भाई! ज़रा देख के चलो’ गीत लिखा जो पॉपुलैरिटी के सारे रिकॉर्ड तोड़ गया।

फिल्मी गीतों और साहित्या के लिए अवॉर्ड
गोपालदास नीरज ने फिल्‍म शर्मीली, प्रेम पुजारी, रेशमा और शेरा, र‍िवाज, गुनाह और रेशम की डोरी जैसी कई फ‍िल्‍मों के लिए गीत ल‍िखे। उन्‍हें गीत ‘काल का पह‍िया घूमे रे भइया’, ‘बस यही अपराध में हर बार करता हूं’ और ‘ऐ भाई जरा देख के चलो’ के ल‍िए फ‍िल्‍मफेयर अवॉर्ड म‍िला। गोपाल को भारत सरकार ने पद्म श्री, पद्मभूषण पुरस्‍कार से सम्मानित किया, जबकि और उत्‍तर प्रदेश सरकार ने यश भारती समेत मंत्री पद का विशेष दर्जा दिया।…NEXT

 

Read more: 2020 के सबसे चर्चित चेहरे, जिन्हें उनके जज्बे ने शोहरत दिलाई

साल 2020 की बेस्ट 3 तस्वीरें, देखें

साल 2020 में ट्विटर पर छाए रहे 6 ट्वीट

नवंबर ने गर्मी के सारे रिकॉर्ड तोड़े, 2020 तीसरा सबसे गर्म साल

सबसे ज्यादा विश्व की ऐतिहासिक धरोहरें इस देश में, जानें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *