Menu
blogid : 26149 postid : 3255

सैकड़ों हाथियों की रहस्यमयी मौत से पर्दा उठा, मई में शुरू हुआ था मरने का सिलसिला

Rizwan Noor Khan

21 Sep, 2020

पृथ्वी के सबसे बड़े जानवरों में शुमार हाथी का जीवन संकट में है। दुनियाभर में सबसे ज्यादा हाथियों की संख्या अफ्रीका में पाई जाती है। दक्षिणी अफ्रीकी देश बोत्सवाना में मई से हाथियों की रहस्यमयी मौत से हड़कंप मचा हुआ है। कई महीनों की जांच के बाद हाथियों की रहस्यमयी मौत के राज से पर्दा उठ गया है।

Image courtesy : Al Jazeera

दुनियाभर में हाथियों का जीवन संकट में
दुनियाभर में हाथियों की संख्या में बड़ी तेजी से कमी दर्ज की जा रही है। 2016 में आई आईयूसीएन की रिपोर्ट में बताया गया था कि 11 लाख से ज्यादा हाथी दुनियाभर में विचरण कर रहे हैं। करीब 3 साल बाद मार्च 2019 में आई रिपोर्ट में बताया गया कि अब हाथियों की संख्या तकरीबन 415,000 रह गई है।

बोत्सवाना में हाथियों की रहस्यमयी मौत से हड़कंप
अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे तेजी से हाथियों की संख्या जिस देश में कम हुई वह है बोत्सवाना। अफ्रीकी हाथियों की सबसे ज्यादा एक तिहाई आबादी 130,000 बोत्सवाना में पाई जाती है। वहीं, बोत्सवाना वह देश भी बन गया है जहां सबसे ज्यादा तेजी से हाथियों की संख्या घट रही है। इसकी वजह हाथियों की बड़े पैमाने पर रहस्यमी मौत को माना जा रहा है।

दो बार में एक साथ मर गए 350 से ज्यादा हाथी
रिपोर्ट के मुताबिक मई 2020 में बोत्सवाना में सबसे पहले 169 हाथियों के एक ग्रुप की रहस्यमयी तरीके से एक साथ मौत हो गई। इतनी बड़ी संख्या में हाथियों की मौत का मामला दुनियाभर में चर्चा का विषय बन गया और इसकी तत्काल जांच शुरू कर दी गई। इसके बाद जून माह में 187 हाथियों की फिर से मौत हो गई।

जिम्बांब्वे में एक साथ 29 हाथियों की मौत से हड़कंप
हाथियों एक साथ इतनी रहस्यमयी मौतों से पशुप्रेमियों और पशुहित के लड़ने वाले संगठनों में हड़कंप मच गया और वैश्विक जांच की मांग उठने लगी। इस बीच दक्षिण अफ्रीकी देश जिम्बांब्वे में भी अगस्त में एक साथ 29 हाथियों की अचानक मौत हो गई। हाथियों की मौत का मामला वैश्विक स्तर पर गरमा गया।

Image courtesy : Al Jazeera

 

पानी में मिला बैक्टीरिया बना हाथियों की मौत का कारण
करीब 3 महीने की जांच के बाद चिकित्सकों और वैज्ञानिकों ने हाथियों की मौत की वजह का पता लगा लिया है। अलजजीरा के मुताबिक जांचदल के प्रमुख वेटनरी आफिसर मादी रूबेन ने बताया कि बोत्सवानो में हाथियों की मौत की वजह पानी में मौजूद साइनो बैक्टीरिया है। इस बैक्टीरिया ने हाथियों के पेट में जाते ही जहर का काम किया, जिससे बड़े पैमाने पर एक साथ हाथियों की मौत हो गई।

Read more:

अश्लील वीडियो देखते हैं तो हो जाएं सावधान, खतरनाक बीमारी की चपेट में आ रहे लोग

मधुमक्खियों में फैल रही महामारी, खतरे में हैं दुनियाभर की मधुमक्खियां

दूषित भोजन दे रहा 200 से ज्यादा बीमारियां, कई तो कोरोना से भी खतरनाक

6 करोड़ लोगों पर लटकी गरीबी की तलवार, विश्वबैंक के खुलासे से दुनियाभर में चिंता बढ़ी

35 देश अपने ही बच्चों के लिए खतरा बने, अफगानिस्तान समेत एशिया के कई देश लिस्ट में

पाकिस्तान से 30 साल बाद रिहा होगा एशियाई हाथी, जनरल जियाउल हक को गिफ्ट में मिला था

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *