Menu
blogid : 26149 postid : 3904

4 साल में 84 लाख बच्चे बालश्रम में धकेले गए, वैश्विक स्तर पर चाइल्ड लेबर रेट बढ़ने से चिंता गहराई

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 10 Jun, 2021

दुनियाभर में कई लाख बच्‍चे आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और वह बाल मजदूरी के लिए विवश हैं। वैश्विक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 4 साल में 84 लाख बच्‍चे बालश्रम की ओर धकेले जा चुके हैं। बढ़ते आंकड़ों ने बच्‍चों के लिए काम करने वाली संस्‍थाओं और तमाम देशों की चिंता बढ़ा दी है। पिछले दो दशक में बालश्रम की दर में तेजी से वृद्धि दर्ज की गई है।

Child Labor. Image courtesy- Mohammad Ismail/Reuters Via Al Jazeera.


दो दशक में तेजी से बढ़ा बालश्रम-

यूनीसेफ और अंतरराष्‍ट्रीय श्रम संगठन के आंकड़ों के अनुसार पिछले 20 वर्षों में बालश्रम मे तेजी से वृद्धि दर्ज की गई है। 2016 में वैश्विक स्‍तर पर बालश्रमिकों की संख्‍या 15.2 करोड़ थी जो अब बढ़कर 16 करोड़ पहुंच गई है। पिछले 4 वर्षों में करीब 84 लाख बाच्‍चों को बालश्रम की ओर धकेला गया है।

90 लाख बच्‍चों का भविष्‍य संकट में-
अलजजीरा की रिपोर्ट के अनुसार 2022 तक 90 लाख बच्‍चे बालश्रम संकट की ओर बढ़ रहे हैं। अगर तुरंत इस ओर ध्‍यान नहीं दिया गया तो यह बच्‍चे अपने मूल अधिकारों से दूर होकर पेट भरने के लिए मजदूरी करने को मजबूर हो जाएंगे। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना महामारी के चलते उपजे आर्थिक संकट का असर बच्‍चों को बालश्रम की ओर धकेल रहा है।

child labor. Image courtesy-UNICEF


स्थिति और भी गंभीर होने का खतरा-

अंतरराष्‍ट्रीय श्रम संगठन के एक मॉडल के तहत आने वाले वर्षों में बालश्रम दर में बढोत्‍तरी हो सकती है। आंकड़ों के अनुसार 4.6 करोड़ बच्‍चे बालश्रम संकट की चपेट में आ सकते हैं। सबसे ज्‍यादा खराब स्थिति सब सहारा अफ्रीका रीजन में हैं। यहां आर्थिक संकट पहले से ही परेशानी की वजह बना हुआ है। मौजूदा स्थिति को कोरोना महामारी ने और भी खराब कर दिया है।

Infographic courtesy- Al Jazeera.


28 फीसदी बच्‍चों की उम्र 5-11 साल-

यूनीसेफ की डायरेक्‍टर हेनेरीटा फोर ने कहा कि बालश्रम के खिलाफ लड़ाई में हम पिछड़ रहे हैं। कोरोना के चलते ग्‍लोबल लॉकडाउन, स्‍कूल, कारखानों के बंद रहने और राष्‍ट्रीय बजट में गिरावट का असर परिवारों पर हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक 28 फीसदी 5 से 11 साल के ऐसे बच्‍चे हैं जो स्‍कूल जाने की बजाय मजदूरी कर रहे हैं। जबकि, 35 फीसदी 12 से 14 साल के ऐसे बच्‍चे हैं मजदूरी करने को मजबूर हैं।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *