Menu
blogid : 26149 postid : 2942

5 हजार साल पुराने दो बर्फ के पहाड़ गायब होने से खलबली, ढाई हजार एकड़ में फैले थे, तलाश में जुटी वैज्ञानिकों की टीम

Rizwan Noor Khan

10 Aug, 2020

 

 

दुनिया के वरिष्ठ वैज्ञानिकों की टीम दो बर्फ के पहाड़ (आइस कैप) के अचानक गायब होने से चिंता में हैं। बर्फ का एक पहाड़ 3 मील लंबा था, जबकि दूसरा और 1 मील लंबाई क्षेत्र में फैला था। यह दोनों बर्फीले पहाड़ 5 हजार साल से अपनी जगह पर कायम थे। बर्फ के पहाड़ गायब होने के पीछे की वजह तलाशने में वैज्ञानिक जुटे हुए हैं।

 

 

 

Video Grab : Xinhua

 

 

कनाडा की सेंट पैट्रिक खाड़ी में थे बर्फ के पहाड़
सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार कनाडा की सेंट पैट्रिक खाड़ी में लंबे क्षेत्रफल में फैले दो बर्फीले पहाड़ पूरी तरह गायब हो चुके हैं। नासा की नई सेटेलाइट इमेज सामने आने के बाद इसकी जानकारी वैज्ञानिकों को हो सकी है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि ग्लोबल वार्मिंग के चलते दोनों पहाड़ पिघल गए हैं। यह घटना सामने आने के बाद से ग्लोबल वार्मिंग के खतरों पर फिर से बहस छिड़ गई हैं।

 

 

Image courtesy : CNN

 

 

 

समय से पहले पिघलना अच्छा संकेत नहीं
नेशलन स्नो एंड आइस डाटा सेंटर के डायरेक्टर मार्क सेरेज ने बताया कि अचानक से दोनों बफीले पहाड़ों का यूं पिघल जाना अच्छे संकेत ठीक नहीं हैं। इस घटना से वह बेहद चकित हैं। उन्होंने कहा कि वह पहले से जानते थे कि पहाड़ पिघलेंगे लेकिन इतनी जल्दी पिघल जाएंगे, उन्हें इस बात का कतई अंदाजा नहीं था।

 

 

National Snow and Ice Data Center director Mark Serreze. Image courtesy : CNN

 

 

 

अनुमान से 2 साल पहले ही गायब हो गए
डायरेक्टर मार्क सेरेज ने 2017 में प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में संभावना जताई थी कि सेंट पैट्रिक खाड़ी के ये दोनों बर्फीले पहाड़ अगले 5 साल में पिघल सकते हैं। लेकिन, अनुमान से दो साल पहले ही पहाड़ गायब हो चुके हैं। इस घटना के बाद से नेशलन स्नो एंड आइस डाटा सेंटर के वैज्ञानिक इसके कारणों पर गहन अध्ययन में जुट गए हैं।

 

 

Image courtesy : CNN

 

 

4 मील लंबे क्षेत्र में फैले थे दोनों बर्फ के पहाड़
रिपोर्ट में बताया गया है कि 1969 के डाटा के अनुसार यह दोनों आइस कैप हाजेन प्लातेउ और उत्तरपूर्वी एलेसमेर आइलैंड नुनावुत के बीच में थे। ए​क बर्फीले पहाड़ 3 मील क्षेत्र में फैला था, जबकि दूसरा 1.1 मील क्षेत्र में फैला था। दोनों पहाड़ों का फैलाव 4 हजार हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में था।

 

 

 

 

16वीं से 19वीं शताब्दी के बीच और भी बढ़े थे दोनों पहाड़
शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार यह दोनों आइस कैप 5000 साल पुराने आइस एज के समय से हैं। अनुमान है कि यह 16वीं से 19वीं शताब्दी के बीच सबसे ज्यादा बड़े रहे होंगे। जो धीरे धीरे साल दर साल पिघलते रहे और अब पूरी तरह गायब हो गए। वातावरण में बढ़ती गर्मी और क्लाइमेट चेंज को दोनों बर्फ के पहाड़ों के गायब होने की वजह माना जा रहा है।…NEXT

 

 

 

Read more:

कैदियों को ड्रग्स सप्लाई करने वाली खतरनाक बिल्ली जेल से फरार

दुनिया के सबसे बहादुर चिंपैंजी ने ‘ग्रेजुएशन’ पूरा किया, अनोखी खूबी वाला इकलौता एनीमल

आधुनिक इतिहास की सबसे बड़ी पशु त्रासदी, एक साल के अंदर 300 करोड़ जानवरों की जिंदगी तबाह

इन क्यूट हरे सांपों को पकड़ना सबसे मुश्किल, बिना तकलीफ दिए डसने में माहिर

मधुमक्खियों में फैल रही महामारी, रिसर्च में खुलासा- खतरे में हैं दुनियाभर की मधुमक्खियां

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *