Menu
blogid : 314 postid : 976

सन्यासी का साम्राज्य – बाबा रामदेव की संपत्ति घोषणा

संपति को लेकर पिछले कुछ दिनों से दिए जा रहे तरह-तरह के बयानों को देखते हुए बाबा रामदेव ने गुरुवार को अपनी संपति की घोषणा कर दी . रामदेव से जुड़ी विभिन्न संस्थाओं की कुल पूंजी करीब 426 करोड़ रुपए है. इसका पूरा ब्यौरा वेबसाइट पर भी उपलब्ध है. उन्होंने कहा कि कंपनियों की स्थापना जनता की सेवा के लिए की गई है जिसकी ऑडिटिंग हर साल होती है.


Baba Ramdevबाबा रामदेव ने बताया कि उनके ट्रस्टों और संस्थानों ने 249 करोड़ रुपए चैरिटी पर खर्च किए. पिछले 17 वर्षों में इन ट्रस्टों ने कुल 1177 करोड़ रुपए कमाए हैं. बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिव्य योग मंदिर, पतंजलि योग पीठ, भारत स्वाभिमान ट्रस्ट और आचार्य कुल शिक्षा संस्थान की संपत्ति का ब्योरा दिया. इस ब्योरे के मुताबिक बाबा से जुड़े ट्रस्टों और संस्थानों की संपत्ति और मुनाफे में जबर्दस्त बढ़ोतरी देखी जा सकती है.


पिछले काफी दिनों से यह बात मीडिया में उछल रही थी कि बाबा रामदेव की संपत्ति का ब्यौरा होना चाहिए और बाबा रामदेव ने अपनी कमाई का ब्यौरा देकर सबके मुंह पर ताला लगा दिया. कांग्रेस के दिग्विजय सिंह को इस खबर से जरुर राहत मिली होगी क्यूंकि वह भी पिछले काफी समय से बाबा द्वारा कमाई गई राशि का आंकलन करने में लगे थे.


लेकिन बाबा रामदेव द्वारा दिए गए बयान और संपत्ति के ब्यौरे ने साफ कर दिया कि बाबा रामदेव और उनकी पंतजलि योगपीठ भारी मुनाफे में जारी रही है. पतंजलि योग पीठ के पास 164 करोड़ 80 लाख और भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के पास 9 करोड़ की संपत्ति है.


बाबा रामदेव की संपत्ति देखकर कोई नहीं कह सकता कि बाबा रामदेव एक आम इंसान हैं या उनकी योगपीठ कोई छोटी-मोटी संस्था है. साथ ही यह बात भी गौर करने वाली है कि बाबा रामदेव ने जो 249 करोड़ रुपए चैरिटी पर खर्च किए हैं आखिर वह कहां खर्च किए हैं क्यूंकि इतनी बड़ी रकम से कई लोगों की मदद की जा सकती थी. सवाल तो अभी भी कई खड़े होंगे बाबा रामदेव पर.


[Yoga guru Ramdev, who is on an indefinite hunger strike against black money and corruption, made public details of his business empire worth over Rs 1,100 crore, claiming everything was in order.]


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *