Menu
blogid : 314 postid : 1389236

दिल्ली में फिर चलेंगे 150 साल पुराने भाप के इंजन, जानें कब से कर सकते हैं सफर

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आने वाले पर्यटकों के लिए 150 साल पुराने भाप इंजन से चलने वाली ट्रेन की सवारी करने की लालसा अब पूरी हो सकती है। आम लोगों को रेलवे की ऐतिहासिक विरासतों और स्टीम इंजनों के बारे में जागरूक करने के लिए रेलवे 15 अगस्त से हर रविवार स्टीम इंजन की ट्रेन चलाने की तैयारी कर रहा है। विशेषज्ञों का एक ग्रुप इन तीनों इंजन को फिर से शुरू करने के कार्य में लगा हुआ है। इनकी जांच होने के बाद इन्हें पर्यटकों के लिए उपलब्ध करा दिया जाएगा।

 

 

 

63वें रेल सप्ताह के दौरान चलेगी इंजन

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने 63वें रेल सप्ताह के दौरान नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से पुरानी दिल्ली के बीच रेल सप्ताह एक्सप्रेस शुरू करने के मौके पर जानकारी देते हुए बताया कि गढ़ी हरसरू से फारूख नगर के बीच चलाई जाने वाली ट्रेन में 2 डिब्बे होंगे। ट्रेन में लोग जनरल टिकट लेकर यात्रा कर सकेंगे। यह यात्रा लगभग 11 किलोमीटर की होगी, उन्होंने बताया कि इस ट्रेन को चलाए जाने से लोगों को देश में स्टीम इंजनों के गौरवशाली इतिहास के बारे में भी पता लग सकेगा।

 

 

अमेरिका से 1947 में आया था आजाद

दूसरी ओर, आम लोगों को रेलवे की हेरिटेज के बारे में जागरूक करने के इरादे से भारतीय रेलवे ने पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के बीच में ‘आजाद’ भारत का अमेरिका से 1947 में आयातित ‘आजाद’ भाप इंजन को चलाया। ‘आजाद’ नाम के इस भाप इंजन के जरिए एक खास कोच में 25 बच्चों को सवारी कराई गई। इन बच्चों में से 20 दिव्यांग बच्चे भी थे। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्वनी लोहानी की खास पहल पर रेलवे ने इस खास यात्रा का आयोजन 63वें रेलवे सप्ताह के खास मौके पर किया गया।

 

 

आजादस्टीम इंजन अमेरिका से मंगाया गया था

‘आजाद’ स्टीम इंजन तकनीकी नाम WP 7200 है, इस इंजन को अमेरिका से मंगाया गया था जिसे 1947 में कमीशन किया गया था। इसलिए इस इंजन का नाम ‘आजाद’ रखा गया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए रेलवे ने दिव्यांग बच्चों के लिए ‘आजाद’ इंजन को सवारी के लिए इस्तेमाल किया। आजाद’ स्टीम इंजन रेवाड़ी से नई दिल्ली लाया गया था और इसकी स्पीड 1 घंटे में 90 किलोमीटर है। ‘आजाद’ स्टीम इंजन पर कई फिल्मों को भी शूट किया गया है।

 

 

पर्यटन के उद्देश्य से फिर से शुरू करने की योजना

एनआरएम के निदेशक अमित सौराष्ट्री ने बताया, ‘हम उन्हें पर्यटन के उद्देश्य से फिर से शुरू करने जा रहे हैं। फायरलेस लोकोमोटिव इसी साल के अंत तक तैयार हो जाएगा और इसे एनआरएम में पर्यटकों के लिए चलाये जाने की भी संभावना है।’ निदेशक ने कहा कि दो अन्य इंजनों को फिर से चलाने के लिए अगले साल तक तैयार कर दिया जाएगा।Next

 

 

 

 

Read More:

राजधानी में गाड़ी चलाना होगा महंगा! जानें क्‍या है वजह

हर महीने पोस्ट ऑफिस देगा आपको पैसे, करना होगा ये काम

1 अप्रैल से ट्रेन में सफर करना होगा सस्ता, इन चीजों के भी घटेंगे दाम!

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *