Menu
blogid : 314 postid : 1392

अन्ना का अनशन खत्म और लोकपाल खटाई में

अन्ना हजारे का अनशन पार्ट 2 बुरी तरह फेल हो गया. जो जज्बा और समर्थन अन्ना हजारे को दिल्ली में मिला था उसका आधा भी मुंबई की जनता उन्हें नहीं दे पाई. शायद सर्द मौसम की मार और मुंबई की भागती-दौड़ती जिंदगी ने अन्ना को अनशन बीच में ही तोड़ने को विवश कर दिया.


Team Annaइसे दो कदम पीछे हट कर हमले की रणनीति कहें या गिरती सेहत की चिंता या फिर संसद में पहली बाधा पार कर चुके लोकपाल का असर, लेकिन अन्ना हजारे ने अपना अनशन एक दिन पहले ही खत्म कर दिया.


अन्ना ने माना कि संसद पर दबाव बनाने की उनकी यह रणनीति नहीं चली. अब सरकार को सबक सिखाने के लिए चुनाव में उसके खिलाफ दोगुना जोर लगाएंगे. अन्ना ने ना सिर्फ अपना अनशन खत्म किया बल्कि उन्होंने दिल्ली में जेल भरो आंदोलन भी वापस ले लिया. कुल मिला-जुलाकर देखा जाए तो अन्ना का दुबारा कांग्रेस पर हावी होने का इरादा फेल हो गया.


Anna Hazareक्यों पीछे हटाए कदम


  • संसद पर दबाव की रणनीति का काम न आना
  • खराब सेहत के कारण डॉक्टरों और टीम का दबाव
  • नए सिरे से और नई तैयारी से व्यूह रचना का इरादा
  • मैदान में लोगों का पहले जैसा समर्थन नहीं मिलना


लेकिन अब अन्ना और उनकी टीम की नजर उन राज्यों पर है जहां जल्द ही चुनाव होने वाले हैं. पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए अन्ना ने अपनी कमर कस ली है. वह वहां जाकर लोगों से ऐसे लोगों को वोट ना देने की अपील करेंगे जो भ्रष्ट हैं या जो जनता की नहीं सुनते. साफ है अगर अन्ना ऐसा करते हैं तो सरकार को लोकपाल से भी ज्यादा नुकसान होगा.


वहीं दूसरी तरह लोकपाल को कांग्रेस ने लोकसभा में तो पारित करवा लिया पर राज्यसभा में उसे पास करवाना कांग्रेस के लिए टेढ़ी खीर साबित हुआ. अन्ना के आंदोलन से लोकपाल विधेयक ने संसद में पहली बाधा तो पार कर ली लेकिन राज्यसभा में सरकार के पास पर्याप्त बहुमत न होने के कारण उसने इस पर वोटिंग ही नहीं करवाई. विपक्षी दलों के बाद तृणमूल कांग्रेस के भी विरोध में उठ खड़े होने से लोकपाल विधेयक खटाई में पड़ गया.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *