Menu
blogid : 314 postid : 1376763

भारतीय सेना ने पाक से लिया अपने जवानों की शहादत का बदला, ऐसे की LOC पार कार्रवाई

पाकिस्‍तान की नापाक हरकतों का भारत ने एक बार फिर मुंहतोड़ जवाब दिया है। अपने सैनिकों की शहादत का बदला लेते हुए भारतीय जवानों ने एलओसी पार कर तीन पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। भारतीय जवानों ने पुंछ के पास रावलाकोट सेक्टर में इस कार्रवाई को अंजाम दिया। इस कार्रवाई को पाक की नापाक हरकत का बदला इसलिए कहा जा रहा है, क्‍योंकि शनिवार को राजौरी के केरी इलाके से सटी नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना ने सीजफायर तोड़ते हुए भारतीय सैनिकों पर फायरिंग की थी। इसमें भारतीय सेना के एक मेजर और तीन जवान शहीद हो गए थे। इसी का बदला लेने के लिए भारतीय सेना ने एलओसी पार कार्रवाई की है।


indian army
प्रतीकात्‍मक फोटो


500 मीटर अंदर तक गई भारतीय सेना


indian army


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय जवान सीमा पार कर करीब 500 मीटर तक अंदर गए। जवान पूरी तैयारी के साथ पाकिस्तानी सीमा में घुसे थे। उनके पास IED, असॉल्ट राइफल और हल्की मशीनगन थीं। भारतीय जवानों ने पाकिस्तान को उसकी सीमा में घुसकर न सिर्फ मुंहतोड़ जवाब दिया, बल्कि वहां करीब 45 मिनट रुककर ऑपरेशन चलाया। बताया जा रहा है कि इस ऑपरेशन में भारतीय जवानों ने आईईडी (IED) का इस्तेमाल किया। खबरों के मुताबिक, भारतीय जवानों ने एलओसी पार जाकर पाकिस्तानी सीमा में IED लगाए, इसी दौरान उनका पाकिस्तानी सेना से सामना हो गया। इसके बाद दोनों तरफ से फायरिंग हुई। भारतीय जवानों की फायरिंग में तीन पाकिस्तानी सैनिक ढेर हो गए।


सुरक्षित वापस लौटे भारतीय जवान


indian army1


POK के रावलाकोट में इस कार्रवाई को अंजाम देने के बाद भारतीय सैनिक सुरक्षित लौट आए। जिस वक्त भारतीय सेना ने यह कार्रवाई की, उस वक्त पाकिस्तान में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव का परिवार उनसे मुलाकात करके लौट रहा था। पाकिस्तानी मीडिया में आ रही खबरों में भी पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि हुई है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इस संबंध में कोई जानकारी जारी नहीं की गई है।


ये हुए थे शहीद

गौरतबल है कि शनिवार को केरी सेक्‍टर के पास पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सेना के एक गश्ती दल पर गोलीबारी कर दी थी। इसमें मेजर मोहारकर प्रफुल्ल अंबादास, लांस नायक गुरमेल सिंह और सिपाही परगट सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में इलाज के दौरान उन्‍होंने तोड़ दिया। शहीर मेजर अंबादास (32) महाराष्ट्र के भंडारा जिले से थे। वहीं, शहीद लांस नायक गुरमेल सिंह (34) अमृतसर और शहीद सिपाही परगट सिंह (30) हरियाणा के करनाल जिले के रहने वाले थे…Next


Read More:

 इस घटना ने बदल दी वाजपेयी की जिंदगी, दिलचस्‍प है पत्रकार से राजनेता बनने की कहानी
 जब स्‍टेडियम में इस बॉलर का नाम लेकर I LOVE YOU चिल्‍लाने लगी लड़की, इस तरह मिला था जवाब
 किसी को अपनी हंसी तो किसी को फल से लगता है डर, इन 10 सितारों को है अनोखा फोबिया

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *