Menu
blogid : 314 postid : 1173171

आईएएस अधिकारी ने की यह हरकत, वायरल हुई अस्पताल की तस्वीर

रौब दिखाना अच्छी बात है लेकिन कहां दिखाया जाए शायद ये ट्रेनी आईएएस अधिकारी भूल गए थे. छत्तीसगढ़ में बलरामपुर जिले के डॉक्टर जगदीश सोनकर अभी पूरी तरह से एसडीएम के रंग में भी नहीं आए कि नवाबगिरी दिखाने के चलते विवादों में फंस गए हैं.


ias


उनकी नवाबगिरी तब दिखी, जब वह एक सरकारी अस्पताल में बेड पर जूता रखकर मरीज का हालचाल जानने की कोशिश कर रहे थे. वह तो भला हो आज के इस मोबाइल और सोशल मीडिया युग का जिसने उनकी हरकत को कैमरे में कैद करके इंटरनेट पर वायरल कर दिया. डॉक्टर जगदीश सोनकर की यह तस्वीर तब की है, जब वह रामानुजगंज में सरकार की योजनाओं के अंतर्गत संचालित पोषण पुनर्वास केन्द्र में कुपोषित बच्चों का हालचाल ले रहे थे.


read: पुलिस अधिकारी बन अपने सपने को पूरा किया इस पांच साल के बच्चे ने


वैसे ‘रौब’ के भी अपने ही रंग है. यह किसी पढ़े-लिखे जागरूक इंसान के सामने नहीं आती बल्कि अनपढ़, किसान और मजदूर को ही अपना टारगेट बनाती है. यह उन्हीं के ईर्द-गिर्द घुमती रहती है. वैसे नए-नए एसडीएम बने डॉ. जगदीश सोनकर ने नहीं सोचा होगा कि उन्हें उनके काम की वजह से नहीं बल्कि रौब झाड़ने के चलते पहचान मिलेगी.


एसडीएम सोनकर भारतीय प्रशासनिक सेवा में चुने जाने से पहले एमबीबीएस भी रह चुके हैं. अब सोचने वाली बात है कि अगर वह किसी अस्पताल में डॉक्टर होते तब उनका व्यवहार मरीजों के साथ कैसा होता? खुद डॉक्टर होने के बाद भी सोनकर शायद यह भूल गए कि वो उस कुपोषित बच्चे के मुंह के सामने अपना जूता टिकाकर खड़े हैं…Next


Read more:

सरकारी अफसर बनकर इस बड़े ठग ने बेच दिया था मशहूर एफिल टॉवर

यह वायरस ब्राजील में मचा रहा है उत्पात, भारत में भी है सावधानी की जरूरत

सत्ताधारियों के लिए आंखों की चुभन हैं ये सरकारी अफसर



Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *