Menu
blogid : 314 postid : 1389738

1 रुपए के लिए बैंक ने नहीं लौटाया 3.5 लाख का सोना, जानें क्या पूरा मामला

Pratima Jaiswal

4 Jul, 2018

विजय माल्या और नीरव मोदी जैसे उद्योगपति बैंकों से हजारों करोड़ रुपए लेकर फरार हो गए, लेकिन इन्हीं बैंकों में कई बार आम लोगों को छोटी-छोटी बातों के लिए परेशान किया जाता है. ऐसा ही एक मामला तमिलनाडु में सामने आया है, जहां महज 1 रुपए के लिए एक ग्राहक का लाखों रुपए का सोना नहीं लौटाया गया. मामला अब हाई कोर्ट में पहुंच गया है.

 

 

 

1 रुपए के डिफॉल्ट का आरोप

कांचीपुरम में एक कोऑपरेटिव बैंक ने 1 रुपए के डिफॉल्ट का आरोप लगाकर कस्टमर सी कुमार द्वारा गिरवी रखे गए 3.5 लाख रुपए मूल्य का सोना (169 ग्राम) जब्त कर लिया. और ऐसा भी नहीं है कि कुमार एक रुपए का भुगतान नहीं करना चाहते थे, लेकिन बैंक द्वारा परेशान किए जाने के बाद अब उन्होंने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

 

 2010 को 31 ग्राम सोना रखा गिरवी

कांचीपुरम सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के ग्राहक सी कुमार ने 6 अप्रैल 2010 को 31 ग्राम सोना गिरवी रखा और 1.23 लाख रुपए का लोन लिया. 28 मार्च 2011 को उन्होंने ब्याज सहित बैंक का कर्ज चुका दिया, लेकिन बैंक का रिकॉर्ड बताता है कि 1 रुपया पेंडिंग रह गया. इसके बाद 9 फरवरी 2011 को उन्होंने 85 ग्राम सोना गिरवी रखकर 1.05 लाख रुपए का लोन लिया. 28 फरवरी 2011 को 52 ग्राम और सोना गिरवी रखकर उन्होंने 60 हजार रुपए लोन लिया. कुछ दिनों बाद उन्होंने दोनों कर्ज चुका दिया, लेकिन 1 रुपए बैलेंस के साथ लोन अकाउंट्स को चालू रखा गया.

 

 

बैंक के खिलाफ आपराधिक मामला

याचिकाकर्ता के वकील एम साथयान के मुताबिक सी कुमार ने बैंक से कई बार गहने लौटाने और पेंडिंग 1 रुपया स्वीकार करने की अपील की. पुलिस ने भी बैंक के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया, लेकिन उन्हें गहने वापस नहीं मिले. याची को गिरवी रखे गए गहनों की सुरक्षा को लेकर शक है और इसलिए अब उन्होंने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. शुक्रवार को इस मामले में सुनवाई हुई. जस्टिस टी राजा ने सरकारी वकील को 2 सप्ताह के भीतर अथॉरिटीज से निर्देश लेने को कहा है...Next

 

Read More:

आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर ट्रांसपोर्टर, हो सकती हैं ये परेशानियां

IRCTC ने लॉन्च किया खास ऐप, खाना ऑर्डर करने से पहले चेक करें MRP

मोदी सरकार की नई योजना,बिना UPSC पास किए बन सकते हैं नौकरशाह

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *