Menu
blogid : 314 postid : 1373764

BHU में सिर्फ 1 रुपये सैलरी लेते थे प्रो. लालजी सिंह, सुलझाया था राजीव गांधी हत्‍याकांड केस!

फादर ऑफ इंडियन डीएनए फिंगरप्रिंटिंग कहे जाने वाले प्रोफेसर लालजी सिंह अब नहीं रहे। रविवार को उनका निधन हो गया। देश ने एक महान वैज्ञानिक खो दिया। प्रोफेसर सिंह ने राजीव गांधी हत्‍याकांड से लेकर मधुमिता हत्‍याकांड जैसे केस तक को डीएनए फिंगर प्रिंट तकनीक से जांच करके सुलझाया था। वे बीएचयू के पूर्व कुलपति थे। 70 वर्ष की उम्र में अंतिम सांस लेने वाले प्रोफेसर सिंह को पद्मश्री से सम्मानित भी किया था। मगर आपको जानकार हैरानी होगी कि भारत में डीएनए फिंगरप्रिंटिंग के जनक कहे जाने वाले लालजी सिंह की जिंदगी का सफर एक छोटे से गांव से शुरू हुआ था। आइये आपको बताते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें।


lalji singh


यूपी के जौनपुर में छोटे से गांव में हुआ जन्‍म

डॉ. लालजी को उनके काम के लिए जाना जाता है। उनका जन्म 5 जुलाई 1947 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में एक छोटे से गांव कलवारी में हुआ था। उनके पिता एक मामूली किसान थे। लालजी सिंह ने BHU से एमएससी करने के बाद कोशिका आनुवंशिकी में पीएचडी की। उन्‍हें बीएचयू समेत 6 विश्‍वविद्यालयों ने डीएससी की उपाधि भी दी थी। प्रोफसर सिंह ने राजीव गांधी मर्डर केस, नैना साहनी मर्डर, स्वामी श्रद्धानंद, सीएम बेअंत सिंह, मधुमिता हत्याकांड और मंटू हत्याकांड जैसे केस को डीएनए फिंगर प्रिंट तकनीक से जांच करके सुलझाया था।


lalji singh2


कई संस्‍थानों और लैब की शुरुआत की

डॉ. लालजी ने भारत में कई संस्थानों और लैब की शुरुआत की। वे हैदराबाद के कोशिकीय एवं आणविक जीवविज्ञान केंद्र (Centre for Cellular and Molecular Biology) के फाउंडर भी थे। उन्होंने 1995 में डीएनए फिंगर प्रिंटिंग और डायग्‍नोस्टिक्स सेंटर शुरू किया। 2004 में जीओम फाउंडेशन शुरू किया। इसका उद्देश्य था कि भारत के लोगों में जेनेटिक बीमारियों को खोजकर उनका इलाज किया जाए। इस फाउंडेशन की शुरुआत मुख्‍यरूप से ग्रामीण इलाकों और पिछड़े इलाकों के लोगों के लिए की गई।


lalji singh1


कई बड़े पद संभाले

डॉ. लालजी अगस्‍त 2011 से अगस्‍त 2014 तक बीएचयू के 25वें वीसी के रूप में कार्यरत रहे। खबरों की मानें, तो बीएचयू का वीसी रहने के दौरान उन्होंने सिर्फ 1 रुपये वेतन लिया। वे अगस्त 2011 से अगस्त 2014 तक IIT BHU बोर्ड के चेयरमैन भी रहे। मई 1998 से जुलाई 2009 तक वे Centre for Cellular and Molecular Biology (CCMB) के निदेशक और 1995 से 1999 तक Centre for DNA Fingerprinting and Diagnostics (CDFD) के ओएसडी रहे। उन्होंने आणविक आधार पर लिंग परीक्षण, वन्य जीव संरक्षण, फोरेंसिक और मानव प्रवास पर काफी काम किया।


BHU hospital


एयरपोर्ट पर दिल में उठा दर्द

बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्पताल के सीएमएस डॉ. ओपी उपाध्याय ने बताया कि वे (लालजी) अपने जन्मस्थान जौनपुर के कलवारी गांव गए थे। वहां से दिल्ली जा रहे थे। वाराणसी के एलबीएस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उन्हें दिल में दर्द उठा। उन्हें बीएचयू के ट्रॉमा सेंटर लाया गया, लेकिन बचाया नहीं जा सका। संभवत: लालजी को दिल का दौरा पड़ा था…Next



Read More:

बाप-बेटे के साथ पर्दे पर इश्‍क लड़ा चुकी हैं ये 6 हीरोइनें, हिट रही जोड़ियां!

इन 6 सितारों ने दोस्‍ती पर अपनी फीस की ‘कुर्बान’, फ्री में किया फिल्‍म में काम
TV की वो 5 खूबसूरत खलनायिकाएं, जिनसे नफरत नहीं हो जाएगा प्‍यार!

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *