Menu
blogid : 1412 postid : 467

..एक दिन हमारे नाम भी….

मेरी आवाज सुनो

  • 88 Posts
  • 716 Comments

swagat1

8 मार्च याने आंतरराष्ट्रिय महिला दिवस!

ज़्यादातर हमने हर ख़बरे सुनी है कि महिला दिवस पर  महिला संगठन तरहाँ तरहाँ के प्रोग्राम करते हैं।

पर ! आज मैं जो दिखाने सुनाने जा रही हूं वो आपको देख्कर महिला दिवस कि सार्थकता नज़र आयेगी। चाहे कोई ये दिन को समझे या ना समझे।

पर हाँ! इन के लिये तो आज का दिन बडा महत्वपूर्ण है क्योंकि इन्होंने अपना चोला बदला है सिर्फ़ आज के दिन के लिये।

कल फ़िर वही सफ़ेद साडी! आज ये स्वागत कर रही हैं आनेवाले महेमानो का।

इन्हें तो  ये पता भी नहिं था कि आज का महत्व क्या है?

समझाने पर एक के बाद एक अपने आपको इस दिवस के लिये तैयार करने लग गई।

और परिणाम आप ही देखलो।

परिवर्तन कहो या अपने आपको पोज़िटीव बनाने कि चाहत इन्हें ऐसे बदलाव पर ले आई।

आशा है कि ये अपने आपको जीवन के प्रति हकारात्मक/परिवर्तन की दिशामें ज़रूर ले जाएंगी।

ताक़ि इनकी आनेवाली पीढी इन्हीं से सबक़ लेती रहे।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *