Menu
blogid : 313 postid : 2952

बहुत शर्मीली होती हैं महिलाएं !!

महिला और पुरुष में परस्पर आकर्षण का भाव विकसित होना लाजिमी है. वर्तमान समय के मद्देनजर अगर देखा जाए तो साथ पढ़ने और काम करने के कारण उन दोनों में संपर्क और भी बढ़ गया है जो उनके बीच आकर्षण और नजदीकियों को और बढ़ा देता है.


shy girl महिलाओं के विषय में यह माना जाता है कि वह जब कोई महिला किसी पुरुष को पसंद करती है तो उसके प्रति उसका व्यवहार भी पूरी तरह बदल जाता है, वह शरमाने लगती है, संबंधित पुरुष से बात करने में हिचकती है आदि. वह हमेशा उसके आसपास रहना चाहती है.


अगर एक नए अध्ययन की स्थापनाओं पर यकीन करें तो अपने लव-इंट्रस्ट से मात्र बात करने से ही महिलाओं के चेहरे का तापमान बढ़ने लगता है और उस पर अजीब सी चमक आ जाती है.


सेंट एंड्र्यूज विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा संपन्न इस अध्ययन में यह पाया गया कि शारीरिक रूप से नजदीक आए बगैर भी महिलाओं के चेहरे की लाली बढ़ने लगती है और वह बहुत ज्यादा शरमाने लगती हैं जो उनके चेहरे पर साफ दिखाई भी देता है.


अध्ययन से जुड़े दल ने महिलाओं के चेहरे पर आने वाले बदलावों को परखने के लिए थर्मल इमेजिंग की सहायता ली. उन्होंने पाया कि जब वह पुरुषों के साथ होती हैं तो उनके चेहरे का तापमान बढ़ने लगता है.


शोधकर्ताओं का कहना है कि इस थर्मल इमेजिंग को आगे भी लाई-डिटेक्टर टेस्ट आदि जैसे कई प्रयोगों में लाया जा सकता है. इससे यह भी पता लगाया जा सकता है कि व्यक्ति कितने तनाव में है.


इस अध्ययन की मुख्य लेखक अमांदा हाहन का कहना है महिलाओं के चेहरे में आने वाला यह बदलाव किसी सार्वजनिक मुलाकात में भी देखा जा सकता है. अध्ययन के अंतर्गत जब कोई महिला किसी पुरुष से बात कर रही होती है तो उनके चेहरे, हाथ और बाजू का तापमान मापा गया.


बायोलॉजी लेटर्स नामक पत्रिका में छपने वाले इस अध्ययन में यह दिखाया गया कि यह बदलाव केवल महिलाओं में तब ही पाया जाता है जब वह किसी पुरुष से मिलती हैं क्योंकि अन्य महिला से मिलने पर कोई बदलाव नहीं प्रतीत होता.


भारतीय परिदृश्य के अनुसार अगर इस शोध को देखा जाए तो भारतीय महिलाएं अपेक्षाकृत अधिक शालीन होती हैं. किसी पुरुष से मिलने पर अगर वह हिचकिचाती हैं तो यह उनका नैसर्गिक स्वभाव है. वैसे भी जिसके प्रति हम प्रेम या आकर्षण रूपी भावनाएं रखते हैं उनमें और अन्य लोगों में थोड़ा बहुत अंतर तो होता ही है. हां, सभी पुरुषों के साथ बात करने में समान महसूस करना यह एक व्यक्तिगत स्वभाव ही कहा जाएगा, क्योंकि आमतौर पर महिलाएं ऐसा व्यवहार किसी स्पेशल के साथ ही करती हैं.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *