Menu
blogid : 313 postid : 1614

पुरुषों को आकर्षक लगती हैं नीली आंखें और काले बाल !!

attractive girlsआमतौर पर यह समझा जाता रहा है कि पुरुषों को हल्के रंग के बालों वाली महिलाएं अपेक्षाकृत अधिक आकर्षक लगती हैं. लेकिन एक नए सर्वेक्षण ने यह प्रमाणित कर दिया है कि इस धारणा का कोई आधार नहीं है. सोशल नेटवर्किंग साइट बडू द्वारा कराए गए एक शोध के मुताबिक पुरुषों की पसंद अब बहुत हद तक परिवर्तित हो चुकी है. वह हल्के बालों और गोरे रंग-रूप की महिलाओं से ज्यादा गहरे बालों और सांवली महिलाओं को अपना जीवन साथी बनाने की चाह रखते हैं.


2000 पुरुषों पर कराए गए इस शोध के नतीजों ने यह प्रमाणित कर दिया है कि वर्तमान दौर के पुरुष इस कथन पर खरे नहीं उतरते कि हल्के बालों वाली महिलाएं उन्हें शारीरिक रूप से ज्यादा आकर्षित करती हैं. पुरुषों से जब यह पूछा गया कि उन्हें महिलाओं के बाहरी व्यक्तित्व में से सबसे आकर्षक चीज क्या लगती है तो उनके अनुसार महिलाओं के व्यक्तित्व में उनके बाल और आंखें सबसे अधिक आकर्षक होती हैं.


लगभग 60% पुरुषों ने यह बात स्वीकार की है कि उन्हें गहरे काले रंग के बालों वाली महिलाएं आकर्षित करती हैं, वहीं दूसरे नंबर पर भूरे बाल बहुत अधिक पसंदीदा रहे हैं. इसके अलावा 28.6% पुरुषों ने हल्के काले बालों को अपनी प्राथमिकता प्रदान की हैं. उल्लेखनीय बात है कि अभी तक जिन हल्के और लाल रंग के बालों को आजकल का फैशन ट्रेंड समझा जाता था, वह तो सूची के अंतिम पायदान पर हैं. इसके अलावा एक और हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि पुरुष जिन मॉडलों को अत्याधिक आकर्षक मानते हैं, उनकी काया को परफेक्ट समझते हैं, वह भी अपनी प्रेमिका या पत्नी के विषय में ऐसी लड़की को प्राथमिकता नहीं देंगे जो इतनी दुबली-पतली हो. केवल 10 प्रतिशत लोग ही यह सोचते हैं कि उनकी ड्रीम गर्ल बिल्कुल उस मॉडल की तरह होनी चाहिए.


वहीं महिलाओं के दूसरे सबसे आकर्षक फीचर आंखों की बात करें तो लगभग 40% पुरुषों ने नीली आंखों वाली महिलाओं को सबसे अधिक आकर्षक माना है.


ल्यॉड प्राइस का कहना है कि वर्तमान दौर में जब पुरुषों द्वारा पसंद की जा रही लाइफ स्टाइल पत्रिकाएं गोरी और हलके बालों वाली मॉडलों से भरी पड़ी हैं, ऐसे में अगर वह अपने व्यक्तिगत जीवन में एक आम दिखने वाली लड़की को प्राथमिकता देते हैं तो यह थोड़ी हैरान कर देने वाली बात है.


लंदन में कराए गए इस शोध को अगर हम भारतीय परिदृश्य से जोड़कर देखना चाहें तो इसके नतीजे यहां के लोगों के विषय में सटीक नहीं हो सकते. इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि भारत जैसी जलवायु में हलके बालों का पाया जाना थोड़ा कठिन है, यहां ज्यादातर काले और भूरे रंग के बाल ही होते हैं. लेकिन जैसा कि हमेशा से होता आया है, फैशन के क्षेत्र में विदेशी लोगों की देखा-देखी करना हम भारतीयों की आदत में शुमार है तो इसी का अनुसरण करते हुए हम विदेशियों की तरह दिखने के लिए बालों को हल्के रंग में रंगना अपना प्रचलन बना चुके हैं. जबकि भारतीय महिलाओं के विषय में हमेशा से ही यह माना गया है कि वह प्राकृतिक रूप से सुंदर हैं. उनकी त्वचा और बालों का बनावट, बाकी सभी देशों की महिलाओं से अपेक्षाकृत बेहतर है. लेकिन फिर भी हम विदेशी लोगों की तरह मॉडर्न बनने या फैशनेबल दिखने के लिए नित नए प्रयोग करते रहते हैं. इसके अलावा हमारे युवाओं विशेषकर महिलाओं के संदर्भ में यह देखा जा सकता है कि वह मॉडलों की तरह दिखने के लालच में बिना सोचे-समझे अपना खाना पीना सब छोड़ देती हैं, जो भले ही उन्हें पतली काया प्रदान करे लेकिन उन्हें अंदर से बेहद कमजोर बना देता है.


ऐसे हालातों में यह सर्वेक्षण विदेशी लोगों को प्रभावित करे ना करे, लेकिन भारत के वर्तमान हालातों में युवाओं की निरर्थक मानसिकता को बदलने में काफी हद तक फायदेमंद हो सकता है.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *