Menu
blogid : 313 postid : 941

शादी के मामले पुरुष ज्यादा गंभीर

Lifestyle Blogप्यार तो बहुत लोग करते हैं लेकिन बहुत ही कम लोग ऐसे खुशनसीब होते हैं जिनका प्यार परवान चढ़ता है. कभी घर वालों की रजामंदी, कभी प्यार में आई तकरार के कारण प्यार करने वाले जोड़े बिछुड़ जाते हैं, आधे से भी कम लोग होते हैं जो प्यार को परवान चढ़ाते हुए शादी करते हैं.

प्यार और उसके बाद शादी, बहुत से लोग सोचते हैं कि महिलाएं प्यार होने के बाद शादी करने के लिए ज़्यादा आतुर होती हैं. लोगों के दिमाग में शायद यह विचार इसलिए घुमड़ता है क्योंकि पुरुषों की प्रवृत्ति होती है कि वह बहुत सी चीजों को हल्के में लेते हैं, लेकिन क्या शादी जैसे गंभीर विषय को भी वह हल्के में लेते हैं?

पुरुषों का चरित्र आत्मविश्लेषी होता है, और शादी के विषय में वह महिलाओं से भी ज़्यादा गंभीर होते हैं इसीलिए वह घर बसाने में ज़्यादा विश्वास रखते हैं. एक शोध से पता चलता है कि पुरुष महिलाओं के पूरक होते हैं, समय के साथ-साथ पुरुषों के चरित्र में बहुत बदलाव आया है और इसी बदलाव का नतीज़ा है कि वह घर बसाने में ज़्यादा विश्वास करने लगे हैं.

डेटिंग वेबसाइट मैच डॉट कॉम के द्वारा कराए गए एक शोध से पता चलता है कि पुरुष घर बसाने के मामले में महिलाओं से ज़्यादा सचेत रहते हैं. इस शोध की सार्थकता को सिद्ध करने के लिए शोधकर्ताओं ने 5,199 पुरुष और महिलाओं पर शोध किया. शोध के परिणामों से पाया गया कि 51 प्रतिशत पुरुष, जो 21 से 34 वर्ष के बीच थे, का कहना था कि वह जल्द से जल्द अपना घर बसाना चाहते हैं, जबकि केवल 46 प्रतिशत महिलाओं ने इस विषय पर हामी भरी. 35 से 44 प्रतिशत अविवाहित पुरुष भी महिलाओं से आगे थे.

फादरहुड इंस्टीट्यूट के विचारक एड्रियन बर्गेस का भी यह मानना है कि पहले से ही पुरुष महिलाओं के मुकाबले जल्दी घर बसाने में विश्वास करते थे हालांकि कुछ समय पूर्व तक वह अपने उत्तरदायित्व निभाने पर ज़्यादा ध्यान देते थे. वह तब तक इंतजार करते थे जब तक वे आर्थिक रूप मजबूत न हो जाएं.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *