Menu
blogid : 313 postid : 1132272

ऐसे दिखेंगे भारतीय रेल के कोच, यात्री किरायों में भी हो सकती है बढ़ोत्तरी

ठहरिए जनाब! तस्वीरों को देखकर यह न समझ बैठिए कि यह अमरीका, चीन, जापान या युरोप में चलने वाले ट्रेनों के कोच हैं. यह तो भारतीय रेल के डिब्बे हैं. जी हां, पायलेट प्रोजेक्ट के तहत बन रही नई रेलवे मंत्रालय की ओर से भारतीय रेल के डिब्बों में तमाम तरह की सुविधाओं के अलावा कई नए बदलाव किए हैं. पायलट प्रोजेक्ट 32 करोड़ रुपए का है. इसमें 111 नए कोच बनाए जा रहे हैं. इसमें ट्रेन के एसी से लेकर स्लीपर और जनरल कोच का अंदरूनी हिस्सा बेहतर बनाया गया है. इसके अंदरूनी डिजाइन के अलावा ट्रेन की सुरक्षा और गति में भी सुधार किया गया है.


train63


ट्रेन की इन तस्वीरों को देखकर आपको लगेगा भारत ‘मेक इन इंडिया’ की ओर बढ़ रहा है. तस्वीरों के माध्याम से आइए जानते हैं कैसे बदल रही है भारतीय रेल?


coaches


24 डिब्बों की यह ट्रेन यात्रियों की सेवा के लिए तैयार है. हाल ही में इसे रेल मंत्री को दिखाया गया था. हर श्रेणी के यात्रियों को आकर्षित करने के लिए इसके अंदरूनी डिजाइन को पूरी तरह से बदल दिया गया है. स्लीपर डिब्बों के लिए तैयार किए गए नए कोच में श्रेणियों के हिसाब से सीटों का रंग भी अलग-अलग किया गया है.


train06


पहले की अपेक्षा इस ट्रेन की नई सीटें ज्यादा चौड़ी और आरामदेह हैं. आग से बचने के लिए सभी कोच की सीटें फायरप्रूफ मटेरियल से बनाई गई हैं.


Read: बच्चे की दूध की बोतल ने चलती हुई एक्सप्रेस ट्रेन को रोका


नए कोच में टॉयलेट को भी बदला गया है. नए तरह के टॉयलेट, जिनमें शॉवर भी लगाए गए हैं और इनका इंटीरियर भी बदला गया है. साबुन-डस्टबिन के साथ नया ग्रीन टॉयलेट सिस्टम भी तैयार किया गया है.



trains02


बोगियों में सीटें जर्क प्रूफ हैं तथा इनमें एलईडी लाइट्स भी लगाई गई हैं. हर एक यात्री के लिए लैपटॉप/मोबाइल चार्जिंग पॉइंट भी लगाया गया है. इसके साथ-साथ कोचों में पेंटिंग्स और गुलदस्ते भी लगाए गए हैं.


ट्रेन की इन सुविधाओं को देखकर संभव है कि यात्री किरायों में भी बढ़ोत्तरी होगी…Next


Read more:

किसान की सूझबूझ से टला सम्भावित रेल हादसा

वाह! ट्रेन में लें सकते हैं यात्री हवाईजहाज का मजा

एक जिंदगी को बचाने के लिए 10,000 टन की ट्रेन को ही उठा दिया गया (वीडियो देंखे)


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *