Menu
blogid : 313 postid : 870240

बाप रे! इस शादी में मेहमानों की जहां गई नजरे वहां मिले सोने और हीरे

अगर आप सोचते हैं कि सोने से सबसे ज्यादा प्यार भारत के लोग करते हैं तो यह शादी आपका यह भ्रम तोड़ सकती है. एक नजर में इस शादी को देखकर लगता है कि यहां दुल्हा, दुल्हन और मेहमानों को छोड़कर हर चीज सोने की है. दूल्हा-दुल्हन भी पूरी तरह से सोने से लदे हुए थे. सबसे खास बात तो यह है कि यह  शादी का पूरे 11 दिनों तक चला.


BRUNEI-ROYAL-WEDDING/


ये शादी है ब्रुनेई के सुल्तान के बेटे राजकुमार अब्दुल मलिक की. ब्रुनेई के सुल्तान विश्व के सबसे अमीर शख्स में से एक हैं. अब्दुल मलिक  सुल्तान के सबसे छोटे बेटे हैं और उनकी उम्र 31 साल है. अब्दुल की शादी डेटा ऐनलिस्ट डयांनकु राबीआतुल एडावियाह पेंगिरन से हुई जो कि 22 साल की है और अपने शौहर से नौ साल छोटी हैं.


Read: पत्नी की डाँट ने बदल दी पति की किस्मत, मिला 2.7 किलो खरा सोना


ब्रुनेई के सुल्तान का नाम है हसनलाल बोलखियाह और उनके सबसे छोटे बेटे के इस शादी ने सारी दुनिया की नजरे अपनी ओर खींची. इस शादी में पूरे विश्व के जाने-माने लोग और चंद सबसे अमीर लोग पहुंचे थे. अब जहां इतने सारे ए-क्लास के गेस्ट पहुंचे हो वहां मीडिया का जमावड़ा तो लगना ही था.


brunei-wedding-tia_3265022b


अब्दुल मलिक ब्रुनेई के भावी सुल्तान हैं. उनकी शादी में दूल्हा-दुल्हन के कपड़ों से लेकर शादी का पूरा सेटअप, मेहमान और बाकी सभी चीजें सोने से लदी हुईं थी. यह शादी 1788 कमरों वाले ब्रुनेई के सुल्तान के महल में संपन्न हुई.  नव-दंपत्ति के कपड़े सोने से जड़ित थे और इनमें दुर्लभ हीरों का काम किया गया था. डयांनकु ने इस मौके पर जो जूतियां पहनी हुई थीं उनमें भी हीरे जड़े हुए थे. उनकी सोने की मोटी पाजेब को देखकर तो हर कोई दंग था.


Read: शादी से पहले बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है..लेकिन बॉलिवुड सिलेब्स की बात ही कुछ और है…!!


छोटे से छोटे फंक्‍शन से लेकर शादी के दिन जिस जगह दोनों बैठे, वो भी सोने का ही बना था. ब्रुनेई के सुल्तान के राजमहल का नाम नुरुल ईमान महल है. शाही गार्डस ने थ्रोन हॉल के अंदर खड़े होकर जब नव-जोड़े को सलामी दी वह वाकई देखने लायक था. अब्दुल इस वक्त अपने मिलिट्री ड्रेस में थे. Next…


Read more:

शादी से पहले मां बनो, तभी होगा विवाह !!

पानी की तरह बह रहा ‘सोना’ क्यों बन गया दहशत का सबब, जानिए मनहूसियत के साये में जीते एक इलाके की दास्तां

एक भारतीय जिसने सरकारी कोष में दान किए पाँच टन सोना


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *