Menu
blogid : 313 postid : 3233

लड़का-लड़की की दोस्ती: भला इसमें बुराई क्या है?

रिश्ते,नातों और अहसासों की इस अटूट श्रृंखला के पिछले अंक में हमने पढ़ा कि समाज में लड़का और लड़की की दोस्ती के मायने हैं? आखिर क्यूं समाज एक लड़का-लड़की के बीच के रिश्ते को मात्र “दोस्ती” मानने से इंकार करता है और किस तरह फीजिकल रिलेशनशिप दोस्ती को प्यार में बदल देता है. अब बारी है इस अंक में यह समझने की लड़का-लड़की की दोस्ती से समाज किस तरह प्रभावित होता है?


पुरानी कड़ी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें: Can Boys and Girls Be Friends?


 Friendshipरिश्ता लड़का-लड़की का

दरअसल यह एक नैसर्गिक व्यवस्था है कि स्त्री और पुरुष विपरीत सेक्स के होने की वजह से एक-दूसरे के प्रति आकर्षण महसूस करते हैं और इसी को समाज की नींव का आधार माना जाता है. इसी के वजह से माना जाता है कि जब तक एक लड़का-लड़की शारीरिक आकर्षण से दूर रहते हैं तब तक उन्हें दोस्त ही माना जाता है लेकिन जिस दिन दोनों नैसर्गिक व्यवस्था के अनुसार विपरीत सेक्स के प्रति आकर्षित होते हैं उसी दिन से दोनों के बीच दोस्ती का अंत और प्यार की शुरूआत हो जाती है.


समाज की नजर में प्रेम और दोस्ती

समाज की नजर में अगर लड़के और लड़की के बीच एक हद से ज्यादा दोस्ती हो तो वह समस्याएं पैदा कर सकती हैं. एक लड़के और लड़की के बीच समाज की कुछ वर्जनाएं होती है जो अक्सर दोस्ती से पनपी प्यार में टूट जाती है.


कैसे बन सकते हैं लड़का-लड़की दोस्त

ऐसा नहीं है कि एक लड़का और लड़की दोस्त नहीं हो सकते. लेकिन अगर एक लड़के और लड़की को अगर हमेशा दोस्ती के ही रिश्ते में बंधे रहना है तो उन्हें आपस में जरूरत से ज्यादा दूरी रखनी होगी. अगर वह नजदीक आने की कोशिश करेंगे तो संभव है दोनों के लैंगिक विभाजन इसमें रोड़ा बन जाए. एक लड़का या लड़की खुद को सिर्फ एक सीमा तक ही काबू में रख सकते हैं. जरूरत से ज्यादा नजदीकी दोस्ती में प्यार को पनपने का मौका देती है.


अगर एक लड़का-लड़की के बीच जरूरत से ज्यादा दूरी नहीं है तो उन्हें दोस्त कहना गलत होगा. बेशक उनके बीच शारीरिक संबंध ना हो लेकिन इस बात से भी इंकार नही किया जा सकता कि दोनों के मन में आकर्षण ना हो. और अगर दोनों के बीच आकर्षण है तो इसे दोस्ती का नाम देना गलत है. अब इसको समझने के लिए आप चाहे तो “मैंने प्यार क्यूं किया” और हाल ही में आई “कॉकटेल” को देख सकते हैं.


लेकिन ऐसा भी नहीं है कि एक लड़का और लड़की दोस्त नहीं बने रह सकते. एक लड़का-लड़की दोस्त बने रह सकते हैं बशर्ते वह आपस में जरूरत से ज्यादा दूरी रखें. अगर हम दोस्ती को एक सीमा में रहकर निभाएंगे तो पाएंगे कि यह प्यार से भी ज्यादा मजेदार रिश्ता बनकर हमारी जिंदगी में रंग भरेगा.


Read: Simple Tips to Save a Marriage


Post Your Comments on: प्यार और दोस्ती से जुड़े अपने किसी किस्से को हमसे शेयर कीजिएं.


Tag: Boy and Girld, Ladka-Ladki, Friendship, Love, Love and Relationship, Hindi news Blogs, Pyar, Samaj, Society, Love in Boy and Girls.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *