Menu
blogid : 313 postid : 3045

गुस्से में कभी ना दोहराएं यह गलती !!

angryआपने कई लोगों से यह कहते सुना होगा कि जब भी किसी बात पर या किसी व्यक्ति पर क्रोध आए और ऐसे हालातों में आप खुद पर काबू ना रख पा रहे हों तो अपना क्रोध शांत करने के लिए आपको दस से लेकर एक तक उलटी गिनती गानी चाहिए. इससे आप उस बात को भूल जाएंगे जिस पर आपको क्रोध आ रहा था और खुद को शांत करने में भी सफल रहेंगे.


लेकिन हाल ही में हुआ एक शोध यह प्रमाणित करता है कि अगर आप भी क्रोध आने पर शांति बनाए रखने के लिए दस तक गिनती गिनने जैसी बातों पर विश्वास करते हैं तो इससे आपका गुस्सा कम तो नहीं होता बल्कि इतना ज्यादा बढ़ जाता है कि आप दूसरे व्यक्ति को मारने तक का प्रयास करने लगते हैं.


ओहियो यूनिवर्सिटी द्वारा संपन्न इस अध्ययन में यह बात सामने आई है कि गुस्सा आने पर उलटी गिनती करना आपके व्यवहार को भी उलटा कर सकता है. वैज्ञानिकों का कहना है आप जितना अपने गुस्से को दबाने की कोशिश करते हैं वह उतना ही अधिक बढ़ जाता है. विश्वविद्यालय से संबद्ध संचार और मनोविज्ञान प्रोफेसर ब्रैड भुष्मण का कहना है कि गुस्सा आने पर अगर आप कोई काम करते हैं तो उसका परिणाम कभी सही नहीं हो सकता. आप चाहे यह सोचकर उलटी गिनती शुरू कर दें कि इससे आपका क्रोध कम होगा लेकिन ऐसा कभी नहीं होता क्योंकि जितना आप अपने गुस्से पर ध्यान देते हैं वह और ज्यादा बढ़ता है.


ब्रैड का कहना है कि अगर आप अपनी भावनाओं पर ज्यादा गौर करेंगे तो आपका गुस्सा फूट पड़ेगा और आवेश में आकर आप वह सब कर बैठेंगे जो आप असल में करना ही नहीं चाहते. आपके दिमाग में गुस्सा बना रहता है और आप अक्रामक व्यवहार करने लगते हैं.


शोध से जुड़े एक अन्य शोधकर्ता डोमिनिक मिस्कोविस्की का कहना है कि आपको अपने गुस्से पर ध्यान ही नहीं देना चाहिए. अगर आप ऐसा करते हैं तो आप तटस्थ रहेंगे और इस गुस्से को जाहिर करने की प्रक्रिया से खुद को बचा कर रख पाएंगे.


उपरोक्त अध्ययन भारतीय लोगों के व्यवहार को संतुलित रखने में सहायक हो सकता है. बेवजह क्रोध करना या हर छोटी बात पर झगड़ा करना प्राय: सभी की आदत में शुमार हो गया है. तनावग्रस्त जीवनशैली और सहनशक्ति की कमी इन सबके लिए प्रमुख रूप से उत्तरदायी है. अगर आप भी फिल्म के किसी दृश्य से प्रेरित होकर गुस्सा आने पर उलटी गिनती करने में विश्वास रखते हैं तो यह अध्ययन आपके लिए बहुत लाभकारी सिद्ध हो सकता है.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *