Menu
blogid : 23691 postid : 1145070

बुद्धिमत्ता का अभाव

वर्तमान समाज

  • 15 Posts
  • 3 Comments

जवाहरलाल नेहरु छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार जीवन के उस पड़ाव पे हैं जहां उनसे एक जिम्मेदार व्यवहार कुशल एंव एक उभरते हुए छात्र की उम्मीद की जाती है लेकिन जिस तरह से उन्होंने बिना कोई तथ्य प्रस्तुत करते हुए भारतीय फौज पे इल्जाम जड़ दिए उससे पता चलता है कि उनका मानसिक विकास शारीरिक विकास की तुलना में पिछड़ गया है कश्मीर में मानवधिकारों की स्थित्ति जिस तरह भी हो भारतीय फौज ने आजादी के बाद से अपना कार्य हिमालय की तरह डट कद किया है दिल्ली से भाषण देना उतना ही आसान है जितना कठिन पे पहुँचना है वहां रहने की बात तो आप छोड़ ही दीजिये जरा सोचिये हन्मनथपा जैसे बहादुर सिपाहियों की आत्मा कि कष्ट से गुजर रही होगी जिन्होंने अपने राष्ट्र् के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी सिताराम येचुरी आपातकाल के दौरान गिरफ्तार हुए थे और उसके पश्चात उनका राजनीतिक सफर शुरु हुआ कन्हैया कुमार भी उन्हीं के पीछे जा रहे हैं लेकिन राष्ट्रीय मीडिया का रवैया हैरान करने वाला है गलत शब्दों का प्रयोग और कन्हैया को राष्ट्र भक्त के तौर पर प्रदर्शित किया जा रहा है जैसे की अब कन्हैया हमारे राष्ट्र को विश्व के मानचित्र पर प्रमुख स्थान दे सकता है ऐसे बेहुदा बातों को प्रमुखता देना हमारे राष्ट्रीय मीडिया की मानसिकता को दिखातें हैं आज कल अमेरिकी राष्ट्रपति की दौड़ के लिए खींचतान चल रही है लेकिन कन्हैया की खबरों के बीच डोनाल्ड ट्रम्प के विवादित बोल कहीं गुम से हो गए हैं.आप को याद होगा 2011 में असीम त्रिवेदी नाम के मुम्बई के व्यक्ति को देश द्रोह के आरोप मैं गिरफ्तार किया गया था उन पर संसद को शौचालय की तरह पर्दशित करने व राष्ट्रीय चिन्हं को गलत तरीके से दिखाने के आरोप थे तब राज्य व केंद्र दोंक जगह कांग्रेस की सरकार थी और विपक्ष ने उस फैसले से सहमत था लेकिन 5 वर्षों में राष्ट्रीय राजनीति में काफी परिवर्तन आया है और दुर्भाग्यवश विपक्षी दलों का कार्य संसद बाधित करने से लेकर ऐसे कुवचनो व देश द्रोह के आरोप झेल रहे इंसान को राष्ट्रीय पहचान के तौर पर सहायता दी जा रही हैं राजनीतिक दलों को राजनीति को एक तरफ रख कर अभिव्यकित की आजादी के बहाने राष्ट्रीय फौज व बिना सबूतों के बेहुदा नारों को हटा के देश द्रोही तत्वों पर कार्यवाही करनी चाहिए और इस राष्ट्र को मजबूती प्रदान करनी चाहिए।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *