Menu
blogid : 12313 postid : 764235

मकड़ी का जाला

जिन्दगी

  • 70 Posts
  • 50 Comments

मकड़ी जाला बुनती है ,
तुम भी जाला बुनते हो,
मैं भी जाला बुनती हूँ,
हम सब जाला बुनते हैं
जाले इसलिए हैं
कि वे बुने जाते हैं
मकड़ी के द्वारा
और तुम्हारे, मेरे
या हम सब के द्वारा !
मकड़ी , तुम या मैं
और हम सब इसलिए हैं
कि अपने अपने जालों में
या एक-दूसरे के बुने
जालों में फंसे
जब हम जाले बुनते हैं,
तब तो चुपचाप बुनते हैं ,
लेकिन जब उनमें फंसते हैं
तब बहुत शोर मचाते हैं |

– (c ) कान्ता

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply