Menu
blogid : 12313 postid : 699873

जीवन से जुड़ गयी हूँ – वैलेंटाइन कांटेस्ट

जिन्दगी

  • 70 Posts
  • 50 Comments

तुम्हारी दो बाँहों के
घेरे में
बसा हुआ मेरा संसार
तुम्हारे बिना मैं
हूँ तो कहाँ हूँ ?
दूर जहाँ तक दृष्टि जाती है
वहाँ तुम ही तुम हो
तुमसे परे मैं
कुछ भी नहीं ,
मैं तुम मय हो गई हूँ !
तुम्हारे बिना जो जिया
वह भी कोई जीना था,
तुमसे जुड़कर मैं
जीवन से जुड़ गई हूँ !

– कान्ता गोगिया

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply