Menu
blogid : 12313 postid : 732282

कुछ शेर

जिन्दगी

  • 70 Posts
  • 50 Comments

१. रोशनी की तलाश करती हूँ
तम में चांदनी की तलाश करती हूँ
आज लोगों के घने जंगल में
आदमी की तलाश करती हूँ |

२. हर जिंदगानी का अंत होता है
हर निशानी का अंत होता है
क्या हुआ हम जो हो गए खामोश
हर कहानी का अंत होता है |

३. ख़ुशी की छाया हो या गम की धूप
मेरी जिंदगी को कहीं पनाह नहीं
एक वीरान राह है मेरी जिंदगी
जिसमे कोई आरामगाह नहीं |

४. कांटा जो उँगलियों में चुभा होश आ गया
फूलों की तरफ हाथ बढ़ाने लगे थे हम |

५. जीना न हो जिस दिशा में जी लेती हूँ
मन के रिश्ते घावों को सी लेती हूँ
जब देखती हूँ परायापन चारों और
मैं अपने आंसुओं को पी लेती हूँ |

– कान्ता

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply