Menu
blogid : 1969 postid : 477

दिल्ली : राजधानी की शान के चंद नगीने 4

Jagran Yatra

  • 68 Posts
  • 89 Comments

Join us on : FACEBOOK

290px-Akshardham_(Delhi)अक्षरधाम मंदिर : नए भारत का नया नमूना

जी हां, दिल्ली का अक्षरधाम मंदिर बाकी इमारतों की तरह प्राचीन नहीं है लेकिन जिस अंदाज में इसकी लोकप्रियता फैली है उसने इसे दिल्ली के अहम दर्शनीय स्थलों में शुमार करा दिया है. स्वामिनारायण अक्षरधाम मंदिर एक अनोखा सांस्कृतिक तीर्थ है. इसे ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण की याद में बनवाया गया है. यह परिसर 100 एकड़ भूमि में फैला हुआ है. दुनियां का सबसे विशाल हिंदू मंदिर परिसर होने के नाते २6 दिसंबर 2005 को इसे गिनीज बुक आफ व‌र्ल्ड रिका‌र्ड्स में शामिल किया गया. मंदिर के अंदर विभिन्न परिसर हैं, एक नहर रुपी दर्शन स्थल है और साथ ही एक सिनेमा हॉल भी है.


imagesमुगल उद्यान

दिल्ली के राष्ट्रपति भवन के समीप इस गार्डन को देखने देश के अलग-अलग हिस्सों से खास तौर पर लोग आते हैं. मुगल उद्यान अपने किस्म का अकेला ऐसा उद्यान है, जहां विश्वभर के रंग-बिरंगे फूलों की छटा देखने को मिलती है. यहां विविध प्रकार के फूलों और फलों के पेड़ों का संग्रह है. भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ.राजेंद्र प्रसाद ने इस उद्यान को जन साधारण के दर्शन हेतु खुलवाया था. इसका डिजाइन ब्रिटिश वास्तुकार सर एडविन लुटियंस ने तैयार किया था. 13 एकड़ में फैले इस उद्यान में ब्रिटिश शैली के संग-संग औपचारिक मुगल शैली का मिश्रण दिखाई देता, यहां कई फव्वारों के साथ विभिन्न छोटे-छोटे सेक्टर में फूल लगाए गए हैं.


indexराष्ट्रपति भवन

आधुनिक भारत की एक और पहचान. राष्ट्रपति भवन भारत सरकार के राष्ट्रपति का सरकारी आवास है. सन 1950 तक इसे वाइसरॉय हाउस बोला जाता था. तब यह तत्कालीन भारत के गवर्नर जनरल का आवास हुआ करता था. यह नई दिल्ली के हृदय क्षेत्र में स्थित है. इस महल में 340 कक्ष हैं और यह विश्व में किसी भी राष्ट्राध्यक्ष के आवास से बड़ा है. गणतंत्र दिवस के मौके पर इस विशाल भवन को रोशनियों से जगामगा दिया जाता है.

तो यह तो बात हुई दिल्ली के दर्शनीय स्थलों की लेकिन यह भी मात्र कुछ उदाहरण थे. इनकी लिस्ट तो बहुत बड़ी है. इसके साथ ही लोदी गार्डन, बिरला मंदिर, चिड़ियाघर, पुराना किला, विज्ञान भवन आदि भी अन्य दर्शनीय स्थल हैं. दिल्ली में खानपान की सबसे उम्दा जगह चांदनी चौक मानी जाती है. दिल्ली में घूमने के लिए ऑटो रिक्शा बड़ी आसानी से मिल जाते हैं लेकिन पहले से कोई टैक्सी बुक करवाना ज्यादा बेहतर होता है. दिल्ली की सैर वैसे तो ब्लू लाइन की सैर के बिना अधूरी है लेकिन उसकी जगह अगर आप दिल्ली की मैट्रो का इस्तेमाल करें तो यकीन मानिए आपके पैसे वसूल हो जाएंगे.


तो इस बार दिल्ली आइए और अपने दिल को दिल्ली की खूबसूरती में खो जाने दीजिए.


FOR MORE CLICK HERE .

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *