Menu
blogid : 147 postid : 712565

सशक्त नारी को नमन: अल्फ़ाज़ों में बयां करें अपनी ‘प्रेरणा

Jagran Junction Blog

  • 158 Posts
  • 1211 Comments

एक औरत, एक महिला अपने आप में ममत्व के साथ धैर्य और साहस का भी प्रतीक होती है। हर परिस्थिति में ढलकर या हर परिस्थिति को अपने अनुसार ढालकर यह हमेशा अपने साहस का परिचय देती है लेकिन इसके ठीक उलट एक महिला शारीरिक और भावनात्मक रूप से पुरुषों के मुकाबले कमजोर मानी जाती है। इस एक कारण ने महिलाओं को हमेशा अबला की श्रेणी में रखा है।


पर आज की महिला अबला की इस पारंपरिक परिभाषा को नहीं मानती है। कर्णम मल्लेश्वरी, पी.टी. उषा, किरण बेदी, कल्पना चावला जैसी महिलाओं ने इसे सिरे से खारिज कर महिला सशक्तिकरण की मिसाल कायम की है। लेकिन पुरुषों से हर कदम मुकाबला करती और पीछे छोड़ती, समाज के मापदंडों और मानदंडों को बदलती ये सशक्त महिलाएं हर किसी की प्रेरणास्रोत होती हैं। हालांकि जरूरी नहीं कि ये अपने क्षेत्र में वरीयता प्राप्त नाम हासिल करें। ऐसी कई महिलाएं आपके पड़ोस, आपके मुहल्ले में, आपके शहर या आपके गांव में होंगी। वे आपके लिए, अपने परिवार के लिए, आपके मुहल्ले के लिए साहस की मिसाल और प्रेरणा का स्रोत होंगी लेकिन उन्हें आधिकारिक तौर पर ऐसी कोई वरीयता या सर्टिफिकेट कभी मिला नहीं होगा।


अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) के अवसर पर सशक्त महिलाओं को समर्पित हमारे अभियान में भाग लीजिए। अपने आस-पड़ोस या पहचान में मौजूद ऐसी प्रेणादायक महिलाओं की कहानियां अपने ब्लॉग में लिखकर पूरी दुनिया से शेयर कीजिए ताकि एक दायरे से निकलकर वे महिलाएं अन्य के लिए भी प्रेणास्रोत बन सकें और आप भी अपने शब्दों से उनके प्रति अपना सम्मान प्रदर्शित कर सकें। यह महिला आपकी पत्नी, आपकी बहन, आपकी बेटी, पड़ोसी, दूर की रिश्तेदार या किस्से कहानियों में पढ़ी कोई भी महिला हो सकती है।


महिला दिवस के अवसर पर जागरण जंक्शन प्लेटफॉर्म आपको ऐसी ही प्रेरणादायक सशक्त महिला की कहानी लिखने के लिए आमंत्रित करता है। निम्न विषयों पर 5 मार्च से 8 मार्च 2014, रात्रि 12 बजे तक आप अपनी प्रविष्टियां शामिल कर सकते हैं:


(i) आपके जीवन की प्रेरणादायी महिला: किसी भी रूप में अगर किसी महिला ने अपने सशक्त रूप से आपको प्रभावित या प्रेरित किया है जो दूसरी महिलाओं के लिए भी मिसाल बन सकती है तो वह कहानी ब्लॉग रूप में लिखें।

(ii) अगर महिलाओं को सशक्त होना है तो..: अगर आपको महिला सशक्तिकरण पर या महिलाओं को सशक्त होने से संबंधित कुछ कहना है तो अपने विचार ब्लॉग रूप में लिखें।


सम्मान

चुनी हुई 5 सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियों के रचनाकारों के नाम एवं तस्वीर मंच पर प्रदर्शित किए जाएंगे।


नोट: अपना ब्लॉग लिखते समय इतना अवश्य ध्यान रखें कि आपके शब्द और विचार अभद्र, अश्लील और अशोभनीय ना हों तथा किसी की भावनाओं को चोट ना पहुंचाते हों।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *