Menu
blogid : 1810 postid : 53

नवीन ज्ञानचक्षु

All About Education

  • 68 Posts
  • 59 Comments


एक समय था कि लोग ज्ञान, विज्ञान के लिए, जानकारी करने के लिए तथा समझ बढ़ाने के लिए पुस्तकों के शरण में ही जाते थे. किसी भी विषय को स्पष्ट करने हेतु पुस्तकों की दुकानों तथा पुस्तकालयों को खंगालना पड़ता था. परन्तु तकनीकी विकास -विशेषतौर पर कंप्यूटर और इन्टरनेट- ने ज्ञान संधान में एक सर्वव्यापी पहलू को जोड़ दिया है. यह इसलिए सर्वव्यापी है, क्योंकि थोड़ी कीमत चुकाने से इन्टरनेट सुविधा उपलब्ध हो जाती है, और इसके माध्यम से इस पर मौजूद सामग्री को पढ़ा और देखा जा सकता है.

_Computer_clipart_imageअब जबकि बड़े शहरों और नगरों में इस माध्यम का धड़ल्ले से उपयोग किया  जा रहा और आने वाले कुछ ही समय में यह गांव में निश्चित रूप से व्यापक तौर पर उपलब्ध होगा. इसके साथ एक सच यह भी है कि इस माध्यम का सर्वाधिक उपयोग बच्चे और युवा कर रहे हैं तथा वे इसके सबसे बड़े उपयोगकर्ता बने रहेंगे. अतः अभिभावकों, शिक्षकों और शिक्षा जगत से जुड़े लोगों के समक्ष एक बड़ी चुनौती इस माध्यम के उचित और लाभकारी उपयोग की है. जिस प्रकार से अभी तक समाज के प्रबुद्ध लोगों द्वारा अच्छे गुणवत्तायुक्त संस्थानों, स्कूलों, कॉलेजों की स्थापना की मांग होती रहती है, ऐसी ही मांग इन्टरनेट पर उपलब्ध सामग्री के बारे में भी होनी चाहिए.

जब हम इन्टरनेट माध्यम के फैलाव और इस पर बच्चों एवं युवाओं की पहुँच को रोक नहीं सकते, तब क्या यह समीचीन नहीं है कि इस माध्यम का गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने एवं व्यक्तित्व के सम्पूर्ण विकास करने में सशक्त रूप से उपयोग के लिए प्रयास करें. इसके लिए समाज के प्रबुद्ध लोगों को ऐसे वेबसाइट को लाने के लिए मांग करनी चाहिए जो बच्चों-युवाओं के लिए समर्पित हो. यह उन्हें ज्ञान उपलब्ध कराने, संस्थानों की अद्यतन जानकारी देने, उनकी सभी जिज्ञासाओं को शांत करने में योगदान दे. इसके साथ ही यह वेबसाइट दुनियाभर के छात्र-छात्राओं, शिक्षकों एवं अभिभावकों के लिए वार्तालाप-विचारविमर्श का मंच भी हो.

comp-2स्कूलों/कॉलेजों, शिक्षकों, शिक्षा से जुड़े लोगों एवं अभिभावकों को ऐसे वेबसाइटों की पहचान कर उसे अनुसंशित कर बढ़ावा देना चाहिए. यदि हम सचमुच “सभी के लिए शिक्षा” के नारे को यथार्थ में परिणत करना चाहते हैं, तो हम सबको ऐसा अवश्य करना चाहिए. ऐसा करके शहर और गांव के बीच के अंतर को कम तो किया ही जा सकता है. इन्टरनेट के माध्यम से शैक्षिक प्रयास वर्गीय खाई और क्षेत्रीय अंतराल को भरने का भी उचित अवसर प्रदान करता है. आखिरकार सभी विकास और अनुसंधानों का उद्देश्य धरती के अधिकतम लोगों को लाभ पहुंचाना ही तो है.

संपादक-करेंट अफेयर्स, एम.एम.आई. ऑनलाइन

English Translation: A New Path to Knowledge

Tags:               

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *