Menu
blogid : 7629 postid : 794594

इस गांव के लोग परिजनों के मरने के बाद छोड़ देते हैं अपना आशियाना

क्या अपने प्रियजनों की यादों को भूलना, उससे जुड़ी चीज़ों से किनारा करना इतना आसान होता है? क्या परिजनों के मरने पर कोई अपना पुराना घर छोड़ नए घर का निर्माण करता है? शायद हर कोई ये नहीं कर सकता परंतु कुछ लोग ऐसा करते हैं.



0



लेकिन ये लोग अपनी इच्छानुसार ऐसा नहीं करते. फिर ऐसी क्या बात है कि उन्हें अपना पुराना घर छोड़ने को मजबूर होना पड़ता है. यहाँ आपको वो कारण पता चलेगा जिसे पढ़ कर आप रोमांचित हुए बिना नहीं रह सकेंगे.



Read: आदिवासी हितों के लिए अहम कदम


भारत के कुछ राज्यों में एक समुदाय ऐसा है जो किसी अन्य जनजाति या समुदाय के लोगों से मिलना-जुलना या बातें करना ज्यादा पसंद नहीं करते. इस जनजाति की महिलाएँ शरीर के सभी हिस्सों पर अलग-अलग तरह के टैटू बनवाती हैं. इनके यहाँ टैटू बनाने की प्रथा बहुत पुरानी है जो आजकल शहरी युवाओं में बड़ी तेजी से फैलती जा रही है. यहाँ टैटू बनाने वाली महिलाओं को गोधरिन कहा जाता है.



220px-Baiga_tattoos,_India




बैगा नाम से मशहूर इस जनजाति की महत्तवपूर्ण विशेषता यह है कि किसी परिजन के मौत के बाद ये अपना घर छोड़ देते हैं. फिर ये कहीं और भूमि तलाशते हैं तथा उस भूमि पर नए घर का निर्माण करते हैं. वहाँ नए सिरे से अपनी गृहस्थी बसा कर अपनी बची ज़िंदगी की शुरूआत करते हैं. ये जनजाति मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के जंगलों में निवास करती है.


Read: चक्रव्यूह में घिरा बस्तर



मध्य भारत में ही एक और जनजाति है जिसे गोंड के नाम से जाना जाता है. इस जनजाति के लोग अपने यहाँ आने वाले आगंतुकों का स्वागत उन्हें तंबाकू के सूखे पत्ते देकर करते हैं. आधुनिक समाज की तरह इस जनजाति के लड़के-लड़कियाँ विवाह के लिए अपने साथी का चयन खुद करते हैं जिसे बाद में अपनी जनजाति के ही एक परिषद से अनुमति लेनी पड़ती है. इस जनजाति में लड़के-लड़कियों का अनुपात 1:5 है.



Read more:

लोगों की सभा होने पर इस गांव में पेड़ों से झड़ने लगते हैं पत्ते

बौनों के इस गांव में वर्जित है आपका जाना

एक ऐसा गांव जहां हर आदमी कमाता है 80 लाख रुपए

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *