Menu
blogid : 7629 postid : 1303766

इनके तीनों बच्चों के जन्म ने सबको किया हैरान, 50 लाख लोगों में से किसी एक के साथ होता है यह संयोग

अपने बच्चे के जन्मदिन की तारीख याद रखना माँ बाप के लिए कोई मुश्किल बात नहीं है, लेकिन बच्चे अगर दो से ज्यादा हो तो उनके जन्मदिन तो याद रहते हैं, लेकिन उनके जन्म का साल याद रखने में थोड़ी दिक़्क़त जरूर आती है. परन्तु यूएस की एक महिला इस मामले में थोड़ी भाग्यशाली हैं, जिनके तीन बच्चों के जन्मदिन की तारीख की सीरीज बहुत स्पेशल है.


childern

तारीख की सीरीज खास है इसलिए इसको याद रखना उनकी माँ के लिए ही नहीं बल्कि किसी भी अनजान व्यक्ति के लिए भी आसान है. ‘बार्बर सौपर’ नाम की यह महिला ‘मिशिगन’ (अमेरिका) की निवासी हैं, जो तीन बच्चों की माँ जिनमें से उनकी सबसे बड़ी बेटी चौल का जन्म 08-08-08, बेटे कैमेरॉन का 09-09-09 तथा उनकी सबसे छोटी बेटी 10-10-10 को हुआ था.

us couple

जहाँ, यह दम्पत्ति इस सीरीज को कुदरत का करिश्मा कह रहा है वहीँ विशेषज्ञ इसको संयोग ना मानते हुए इसमें दम्पत्ति की प्लांनिग का दावा करते हैं. ‘बार्बर के अनुसार उनका पहला बच्चा डॉक्टर द्वारा दी गयी नियत तारीख 08-08-08 को पैदा हुआ, जबकि उनके बेटे ने ड्यू डेट 20 सितंबर के पहले 09-09-09 को जन्म लिया, वहीं उनकी तीसरी और सबसे छोटी बेटी के पैदा होने की अनुमानित तारीख 4 नवम्बर थी, लेकिन बेबी के साथ बढ़ती आंतरिक समस्याओं के कारण हमको प्री- मैच्यौर डिलीवरी का कदम उठाना पड़ा और चमत्कार देखिए हमारी छोटी बेटी केर्रा 10-10-10 को हमारी बाहों में आयी.


us special child

बार्बर अपनी छोटी बेटी को ईश्वर का खूबसूरत तोहफा मानती हैं . यह दम्पत्ति अपने बच्चों के जन्म की असाधारण सीरीज पर गर्व महसूस करते हैं और साथ ही 8, 9 तथा 10 नंबर को अपना लकी नंबर मानते हैं . विशेषज्ञों के अनुसार 50 लाख लोगों में से किसी एक व्यक्ति के जीवन में इस तरह के संयोग की संभावना होती है. जब बार्बर से भविष्य में और बच्चे को जन्म देने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने हँसते हुए कहा कि “अब और नहीं रिकॉर्ड बनाने के लिए तीन ही काफी हैं”…Next



Read More:

इनकी क्लास में पढ़ने के लिए स्टूडेंट देते हैं एंट्रेंस, दूर-दूर से आते हैं लोग

1973  से अबतक सोया नहीं है यह व्यक्ति, विज्ञान के लिए बना चुनौती

इस 14 मंजिला इमारत में बसा है पूरा शहर- यहां पुलिस थाना, हॉस्पीटल और स्कूल भी

इनकी क्लास में पढ़ने के लिए स्टूडेंट देते हैं एंट्रेंस, दूर-दूर से आते हैं लोग
1973  से अबतक सोया नहीं है यह व्यक्ति, विज्ञान के लिए बना चुनौती
इस 14 मंजिला इमारत में बसा है पूरा शहर- यहां पुलिस थाना, हॉस्पीटल और स्कूल भी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *