Menu
blogid : 7629 postid : 1205320

ये है असली ‘स्पाइडर मैन’ बिना मदद 1,500 फीट की ऊंचाई पर करता चढ़ाई

अगर कार्टून्स कैरक्टर्स की बात की जाए तो कार्टून्स सीरीज की एक लम्बी लिस्ट तैयार की जा सकती है. अनेक दशकों से स्पाइडर- मैन कार्टून सीरीज का जाना माना किरदार, जो हमेशा से ही बच्चों की पहली पसंद रहा है. टेलीवीजन पर दिखने वाला स्पाइडर मैन भले ही काल्पनिक कैरेक्टर है, लेकिन हम आज आपका परिचय रियल लाइफ स्पाइडर मैन से करा रहे हैं जो रील स्पाइडर मैन के तरह हज़ारों फ़ीट ऊँचाई पर चढ़ जाता है.



spi


1,500 फ़ीट ऊंचाई पर पलभर में चढ़ जाते हैं

अमेरिका का निवासी ‘अलेक्स होंनॉल्ड’ एक पर्वतारोही है जिसने बिना किसी सेफ्टी गार्ड्स के 1,500 फ़ीट ऊंची पथरीली दीवार पर चढ़ने का हौसला दिखाया है. टेलीवीजन में स्पाइडर मैन रस्सी की मदद से उछल- कूद करता है लेकिन अलेक्स बिना किसी सपोर्ट के पहाड़ में से निकले कुछ मिलीमीटर के नुकीले पत्थरों की मदद से यह ऊँचाई तय करता है. उसका आधे से अधिक  ऊँचाई को बिना थमे एक बार में ही चढ़ जाना लोगोंं को सरप्राइज कर देता है.


alex

जहाँ एक सामान्य व्यक्ति को 1,500 फ़ीट की ऊँचाई तय करने में कम से कम दो दिन लगते हैं उसको अलेक्स सिर्फ 3 घंटे में पूरा कर लेता है. हमारे लिए कुछ फ़ीट की ऊँचाई से खड़े होकर नीचे देखना ही खौफनाक होता है,  वहीं अलेक्स बिना किसी सपोर्ट के बड़ी निर्भीकता से अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ता है . उसकी जरा सी चूक,  उसको हज़ार फ़ीट नीचे मौत के मुँह में धकेल सकती है.



Read: बिल्ली के रूप में दुनिया में आया ‘स्पाइडर मैन’, इसके स्टंट देखकर आप भी हैरत में पड़ जाएंगे


ऊंगलियों और पैरों की मदद से करते हैं चढ़ाई

spider



अपने लक्ष्य को तय करने से पहले अलेक्स अपने साथी की मदद से उस रूट को तैयार करता है जिसके जरिये उसे टॉप तक पहुंचना होता है. अलेक्स के साथी ‘केडर राइट’ के अनुसार -“अलेक्स अपनी ऊंगलियों और पैरों को कुछ मिलीमीटर के सपोर्ट पर टिकाता है जो उसको पहाड़ से चिपकाए रखती हैं, अगर वह एक भी मूव मिस कर दे तो यह जानलेवा साबित हो सकता है. ‘अलेक्स’ का यह साहसिक जोखिमभरा सफल कार्य उसकी दीवानगी का ही अंजाम है जिसके आधार पर उसको “रियल स्पाइडर मैन” का टाइटल दिया गया है… Next


Read More:

अनाथालय से निकली यह महिला अब अमेरिका में देती है लोगों को रोजगार

भारत में इस कार में सवारी करेंगे ओबामा, क्या है इसकी खासियत

लड़ाई में सैनिकों को मिली भारी संख्या में सोने की ईंटें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *