Menu
blogid : 7629 postid : 859793

राजीव गांधी को भगवान शिव के साथ पूजा जाता है इस मंदिर में

भारत में नेताओं और सेलिब्रिटियों के मंदिर बनाया जाना और उन्हें पूजना नई बात नहीं है. राजकोट में बनाया गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंदिर को उनके आपत्ति के बाद हटा दिया गया. पर गुजारात के ही एक जिले महिसागर में न सिर्फ भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का मंदिर है बल्कि उन्हें भगवान शिव के साथ पूजा जाता है.


image896


खास बात यह है कि वडोदरा के इस मंदिर में राजीव गांधी की पूजा करने वाले आदिवासी उनके फैन नहीं हैं बल्कि वे दिल से इस बात को मानते हैं कि उन्हीं की वजह से क्षेत्र में विकास हो पाया है. और वे सचमुच पूर्व प्रधानमंत्री को भगवान जैसा ही मानते हैं.


Read: इस मंदिर में गांधी जी को भगवान की तरह पूजा जाता है, जानिए कहां है यह मंदिर


हाल ही में महिसागर जिले के सारसवा गांव में एक मेला लगा था. यह मेला हर साल पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी के नाम पर लगता है. बारिश और खराब मौसम का सामना करते हुए सैकड़ों ग्रामीण इस मेले में पहुंचे. इस मेले में शामिल आदिवासियों के दिल में राजीव गांधी के लिए आपार श्रद्धा देखी जा सकती थी. राजीव गांधी इस गांव में 22 मार्च 1986 को आए थे. तब यह गांव पानी की भारी किल्लत से गुजर रहा था.


राजीव गांधी का यह दौरा गांव वालों  के लिए वरदान साबित हुआ. इसके बाद से गांव में बदलाव की एक बयार चल पड़ी. “गांव में बिजली आई, सड़क बनी और पानी की भी व्यवस्था हुई. गांव के तालाब को भी पुनर्जीवन मिला.” यह कहना है कांति संगादा का जिनके पिता धुला संगादा राजीव गांधी के दौरे के समय गांव के सरपंच थे. कांति बताते हैं कि मेले की शुरुआत 1987 में उनके पिता और अन्य लोगों द्वारा राजीव गांधी के सम्मान में शुरू किया गया.


Read: इंदिरा गांधी की हत्या क्या एक भावनात्मक मुद्दा है !


कांति का कहना है कि, “राजीव गांधी हमारे लिए मसीहा के समान हैं, उनके सम्मान में होली से पहले अमली अग्यारस को मेले का आयोजन किया जाता है जो कि एक पवित्र दिन है” यह मेला एक शिव मंदिर के पास आयोजित किया जाता है. इस मंदिर में राजीव गांधी का एक चित्र रखा गया है. यह चित्र भगवान शिव के चरणों के पास रखी गई है और आदिवासी शिव के साथ इस तस्वीर की भी पूजा करते हैं.Next…



Read more:

दलाली करते थे राजीव गांधी – विकीलीक्स का नया खुलासा

राजीव गांधी के जीवन की अहम बातें

राजीव गांधी के हत्यारों पर क्यूं इतनी मेहरबानी?

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *