Menu
blogid : 7629 postid : 1303631

यहां है धरती का ‘नर्क’, चलती है माइनस 30 डिग्री से भी तेज हवाएं…लोग नहीं निकलते घर से बाहर

हैवन (स्वर्ग) तथा हैल (नरक) दो ऐसे शब्द जो मृत्यु उपरान्त किसी भी व्यक्ति का गंतव्य स्थल माने जाते हैं. हिन्दू धार्मिक ग्रन्थों के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को मौत के बाद स्वर्ग अथवा नरक में प्रवेश लेना पड़ता है जिसका निश्चय उसके कर्मों के आधार पर होता है. ऐसी मान्यता है कि अच्छे कर्मों वाले इंसान को स्वर्ग प्राप्ति होती है, तो बुरे कर्मो वाले व्यक्ति को अपने कर्मों का हिसाब नरक में जाकर चुकाना पड़ता है.


coverr00


लेकिन आपको हैरानी होगी, यह जानकर कि पृथ्वी पर भी एक हैल मौजूद है. जी हाँ, यूएस के ‘मिशीगन’ में एक हैल नाम का शहर मौजूद है जो किसी भी रूप से पौराणिक कथाओं से तो सम्बंधित नहीं है, लेकिन पिछले दिनों यहाँ आने वाले बर्फीले तूफ़ान ‘हरक्यूलस’ की वजह से काफी चर्चा में रहा .


hello2


-30 डिग्री के वेग से चले ठन्डे तूफ़ान के कारण यहाँ का तापमान – 13 डिग्री को पार कर जाता है, जिसका सीधा प्रभाव वहाँ के जन-जीवन पर देखने को मिलता है. लगभग कई परिवार वहाँ जमी हुई बर्फ की वजह से अपने डेली रूटीन से अलग हो घरों में रहने को विवश हो जाते हैं. स्थिति इतनी बुरी हो जाती है कि हैल के निवासियों को मौसम विभाग द्वारा घर से बाहर ना निकलने की चेतावनी दी जाती है.


storm us

इस शहर के नाम के बारे में अनेक कथाएं प्रचलित हैं, जिनमें से एक के अनुसार जब 1830 में दो जर्मन यात्री इस स्थान पर आये जैसे ही वो अपनी गाडी से उतरे, वहाँ की सुनहरी खिली धूप को देखते ही उनमें से एक ने तीन शब्द ‘सो स्कॉन हैल’ कहे, जिनको वहाँ मौजूद कुछ लोगों ने सुन लिया और इन शब्दों का वास्तविक अर्थ जाने बिना हैल शब्द को इस स्थान के नाम के रूप में प्रयोग करने लगे.


hercules

दूसरी कहानी के अनुसार जब यूएस के ‘मिशीगन’ को एक राज्य घोषित किया गया, तो वहाँ के राजनायक से पूछा गया कि वह उस शहर के बारे में क्या सोचते हैं, तो उन्होंने उत्तर दिया कि – ‘मुझे फर्क नहीं पड़ता कि सब इसको ‘हैल’ कहते हैं, मैं हमेशा इसके प्रति कर्तव्यनिष्ठ रहकर इसका ध्यान रखूँगा और इस तरह यह नाम इतना प्रचलन में आया कि यहाँ कि 13 अक्टूबर 1841 को सरकार ने ‘हैल’ को इस शहर का ऑफिसियल नाम घोषित कर दिया…Next


Read More:

आखिर क्यों होते हैं गाडियों के नंबर प्लेट अलग-अलग रंग के, जानें इसका मतलब

कैलकुलेटर तो रोज चलाते हैं आप लेकिन नहीं जानते होंगे इन दो बटनों की ये बात

अपने ही देश से निकाला गया यह व्यक्ति, 18 वर्षों तक एयरपोर्ट पर जिन्दगी बिताने को विवश

आखिर क्यों होते हैं गाडियों के नंबर प्लेट अलग-अलग रंग के, जानें इसका मतलब
कैलकुलेटर तो रोज चलाते हैं आप लेकिन नहीं जानते होंगे इन दो बटनों की ये बात
अपने ही देश से निकाला गया यह व्यक्ति, 18 वर्षों तक एयरपोर्ट पर जिन्दगी बिताने को विवश

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *