Menu
blogid : 7629 postid : 779289

दुश्मन को भी न मिले ऐसी मौत की सजा, जानिए इतिहास की सबसे क्रूरतम सजाएं

आदिकाल से ही अपराधियों/दोषियों को मौत की सजा देने के लिए तरह-तरह की पद्धतियों को अपनाया जाता था. जैसे उन्हें खूंखार जानवरों के बीच छोड़ना, शरीर के अंगों पर हथौड़े से वार करना आदि. हालांकि सजा पाने वालों में बेकसूर लोग भी शामिल होते थे. वैसे जो मौत की सजा इनके लिए मुकर्रर की जाती थी वह हर लिहाज से कष्टदायी थी. जानिए इतिहास में नौ ऐसी मौत की सजा जिसे जान आपकी रुंह काप उठेगी.



image01



शरीर के अंगों पर हथौड़े से वार करना

इसमें व्यक्ति को सीधे मुंह लिटाकर बड़े से पहिए पर बांध दिया जाता है फिर उसके अंगों पर बड़े से हथौड़े से वार किया जाता है. इस तरीके को तब तक जारी रखा जाता है जब तक उस व्यक्ति के सभी अंग टूट नहीं जाते और उसकी मौत नहीं हो जाती.



image06



उबालकर मारना

अपने गलत कामों की वजह से इंसान जब नरक में जाता है तो उसे गर्म तेल की कढ़ाई में तला या उबाला जाता है. इस तरह की कथा हम अकसर हिंदू पुराणों के जरिए सुनते रहते हैं. इस बात में कितनी सच्चाई है यह तो नहीं कहा जा सकता लेकिन 16वीं शताब्दी तक एशिया और यूरोप के कुछ भागों में कैदियों को मौत की सजा देने के लिए यही तरीका अपनाया जाता था. इसमें व्यक्ति को तब तक गर्म पानी या तेल में उबाला जाता है जब तक उसकी मौत न हो जाए.


Read: वह 9 महीने तक अपने पति की लाश के साथ रहकर उसके सड़ने का इंतजार करती रही



image05

गला घोंटकर मार डालना

यह एक तरह की श्वासावरोध उत्पन्न करने की क्रिया है. इसमें व्यक्ति को एक बड़े खूंटे के पास बिठाकर रस्सी से उसके गले को बांध दिया जाता है. रस्सी को इस कदर दबाकर बांधा जाता है कि व्यक्ति का दम घुटने लगता है और उसके मौत हो जाती है.



image041



कारावास की सजा

इसमें व्यक्ति को कारावास में ड़ालकर क्रूर और असामान्य सजा दी जाती है. इसमें उसका खून तो नहीं निकलता लेकिन परिस्थितियां ऐसी बना दी जाती हैं कि वह व्यक्ति अपनी मौत के लिए तड़पता है. उसे दो दीवारों के बीच ऐसी छोटी जगह पर बिठा दिया जाएगा जहां न तो हवा होगी न पानी और न ही खाने को कुछ. इस तरह की सजा से व्यक्ति की घुटन, प्यास या भूख से मौत हो जाती है.


Read: यह योद्धा यदि दुर्योधन के साथ मिल जाता तो महाभारत युद्ध का परिणाम ही कुछ और होता…पर



image07


खूंखार जानवरों के बीच छोड़ना

शुरुआत में ऐसी सजा रोम में इसाइयों के लिए मुकर्रर की जाती थी. इससे पहले राजा-महराजा भी अपने कैदियों को सजा देने के लिए यही तरीके अपनाते थे. इसमें कैदी को खूंखार जानवरों के बीच छोड़ दिया जाता थ. उन्हें या तो बांघों के समूह में छोड़ दिया जाता या फिर हाथी के पैर से कुचलवा दिया जाता.



image11



सलीबी मौत

इसमें व्यक्ति को पूरी तरह से नग्न कर दिया जाता है और जबतक उसके शरीर से खून न निकले तबतक उसे चाबूक से मारा जाता है. फिर क्रोस (क्रिश्चियन) पर बांधा जाता है और उसकी कलाई तथा एड़ियों में बड़े-बड़े किले ठोकी जाती है. यह तरीका अपनाने से व्यक्ति की मौत धीरे-धीरे हो जाती है.


Read: बेतुके सवालों से घिरे हम भारतीय जब देखो तब दूसरों के काम में टांग अड़ाते रहते हैं..ये आर्टिकल आपको बताएगा कितने फनी हैं आप !!


image09



लटकाकर मारना

इसमें कैदियों को एक साथ बांधकर फांसी पर लटकाया जाता है फिर उनके अंगों के छोटे-छोटे टुकड़े किए जाते हैं. इसमें दूसरा तरीका यह है कि कैदियों को लकड़ी के तख्ते पर बांधा जाता है और घोड़ों के जरिए तबतक घसीटा जाता है जबतक उनकी मौत न हो जाए.



image08


पिंजरे में मौत

इसमें कैदी को एक ऐसे वर्टिकल पींजरे में कैद किया जाता है जिसमें चारों तरफ से उसे धारधार हथियारों से चुभोया जा सके. इस पिंजरे में कैदी बचने की कोशिश तो करता है लेकिन खुद को बचा नहीं पाता.


Read: सेल्फी लेने के चक्कर में कुछ ऐसा हो गया जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी


image03

अंगों के टुकड़े करना

इसमें व्यक्ति को मौत की सजा देने के लिए उसके अंगों को बड़ी बेरहमी से काटा जाता है. उसकी मौत धीरे-धीरे हो इसलिए पहले शरीर के मांस को काटा जाता है, फिर शरीर के अंग निकाले जाते हैं और अंत में धारधार हथियार से उसका गला रेत कर बेरहमी से हत्या कर दी जाती है. इसमें आम तौर पर अंग काटने के दौरान ही व्यक्ति की मौत हो जाती है.


Read more:

एक जिंदगी को बचाने के लिए 10,000 टन की ट्रेन को ही उठा दिया गया (वीडियो देंखे)

फेसबुक पर छाया हुआ है इटली का ये हैंडसम माफिया


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *