Menu
blogid : 7629 postid : 769072

शिव भक्ति में लीन उस सांप को जिसने भी देखा वह अपनी आंखों पर विश्वास नहीं कर पाया, पढ़िए एक अद्भुत घटना

चमत्कारों के  देश भारत में आए दिन कोई ना कोई ऐसी घटना घटती रहती है जिसे देखने वाले और जिसके बारे में सुनने वाले लोग हक्के-बक्के रहकर इसे ईश्वर की कृपा से जोड़ देते हैं.  ऐसी ही एक घटना कुम्बाकोनम (तमिलनाडु) के एक मंदिर में घटी जिसने स्थानीय लोगों को हैरान कर दिया.

shivaling


तंजोर जिले के थिरुनागेश्वरम में स्थित है वेदांता  नायकी समेथा विश्वनाथ स्वामी मंदिर, जहां एक अद्भुत घटना लोगों के बीच कौतुहल का विषय बन गई है. दरअसल एक दिन सामान्यतौर पर सभी शिव भक्त जन अपने आराध्य देव की पूजा करने मंदिर में पहुंचे और उन्होंने वहां जो देखा वो चौंकाने वाला था. एक सांप शिवलिंग की पूजा-अर्चना में लीना था और पूरी विधि अनुसार वह अपने ईष्ट के प्रति समर्पण भाव दर्शा रहा था.


तस्वीरें देखकर शायद आप समझ जाएं कि आज नाग पंचमी के दिन हम क्यों इस सांप का जिक्र कर रहे हैं:


naag 2


Read More: कालस्वरूप शेषनाग के ऊपर क्यों विराजमान हैं सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु


naag



मंदिर में मौजूद शिवाचार्य सुरेश का कहना है कि पहले वो नाग बिल्वा पत्तियों के वृक्ष पर गया और उसने वहां से कुछ पत्तियां तोड़ ली और उन्हें लेकर शिवलिंग के पास आने लगा. यदि कोई श्रद्धालू उसकी ओर बढ़ता तो वो उसे डंसने के लिए चेतावनी दे रहा था. कुछ देर बाद अपनी पूजा को पूरा करते हुए वो नाग शिवलिंग के ऊपर ठीक ऐसे विराजमान हुआ जैसे शिव जी की जटाओं में नाग को देखा जाता है, इतना ही नहीं उस नाग ने इस हरकत को कई बार दोहराया और वहां मौजूद सभी लोगों को चौंका दिया.


naag 4


इस तस्वीर में देखिये किस प्रकार से वो नाग शिवलिंग के ऊपर विराजमान है और अपनी पूजा को संपन्न कर रहा है. इस दृश्य को देख वहां मौजूद सभी भक्त बेहद प्रसन्न हुए, उनका मानना था कि साक्षात शिव जी के किसी अवतार ने उन्हें दर्शन दिए हैं और उनका जीवन सफल बनाया है.


Read More: क्यूं मां लक्ष्मी ने भगवान विष्णु की बात ना मानी और कर दिया एक पाप, जानिए क्या किया था धन की देवी ने?

कैसे जन्मीं भगवान शंकर की बहन और उनसे क्यों परेशान हुईं मां पार्वती

क्या माता सीता को प्रभु राम के प्रति हनुमान की भक्ति पर शक था? जानिए रामायण की इस अनसुनी घटना को

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *