Menu
blogid : 22144 postid : 1377330

इस कोरोना की बदौलत मैंने जानी…

Shishir Ghatpande Blogs

  • 33 Posts
  • 4 Comments

इस कोरोना की बदौलत मैंने जानी
अन्न की अहमीयतता
जल की अमूल्यता
समय की दुष्करता
परिस्थितियों की विवशता

लड़ने की जीवटता

जीवन की गहनता

पैसे की महत्ता

स्वतन्त्रता की स्वच्छन्दता

स्वस्थता की अनिवार्यता

स्वच्छता की उपयोगिता

सुविधाओं की दुर्लभता

परिणामों की सकारात्मकता

दृढ़ निश्चय की सफ़लता

सद्कर्मों की अनुकरणीयता

कर्मशीलों की कर्मठता

कर्मों की प्राथमिकता

गुणों की विलक्षणता

विश्वास की ढृढ़ता

कार्यों की दक्षता

स्वयं की गोपनीयता

मनुष्य की मानसिकता

सन्तुष्टि की अनुमानता

संसाधनों की उपलब्धतता

ख़र्चों की मितव्ययिता

भविष्य की अकल्पनीयता

कल्पनाओं की भयावहता

विचारों की दूषितता

त्रासदी की भीषणता

आशंकाओं की वीभत्सता

संकट की आकस्मिकता

भोगियों की विलासिता

दुर्भावनाओं की संक्रमणता

दुर्जनों की दुर्जनता

क्रियाशीलों की निष्क्रीयता

ज़िम्मेदारों की अकर्मण्यता

शक्तिशालियों की उदासीनता

दिखावे की चातुर्यता

सम्पन्नों की हीनता

लाचारों की दीनता

जिज्ञासाओं की आतुरता

संभावनाओं की अपारता

आस्थाओं की मान्यता

आध्यात्म की दिव्यता

शक्ति की अदृश्यता

संस्कारों की पवित्रता

आत्मबल की तेजस्विता

प्रतिमाओं की सजीवता

संसार की भव्यता

निसर्ग की नैसर्गिकता

सृष्टि की रमणीयता

ब्रम्हाण्ड की सुन्दरता

वातावरण की सौम्यता

नद्यो की निर्मलता

झरनों की कलकलता

छवियों की मनोहारिता

उद्यानों की मोहकता

पुष्प की कोमलता

सुगंध की मादकता

पंछियों की चहचहता

राष्ट्र की सहिष्णुता

समाज की सहभागिता

समाज की सौहार्द्रता

जन-जन की उदारता

हृदय की सहृदयता

सेवाभावियों की महानता

प्राणियों की सहायता

सुख-दुःख की सहभागिता

परिजनों की निकटता

परिवार की सदस्यता

रिश्तों की आत्मीयता

और

इन सबसे भी बढ़कर,

मानव की मानवता ………

 

 

शिशिर भालचन्द्र घाटपाण्डे, मुम्बई
०९९२०४ ००११४/०९९८७७ ७००८०

 

 

 

नोट : यह लेखक के निजी विचार हैं और इसके लिए वह स्वयं उत्तरदायी हैं।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *