Menu
blogid : 319 postid : 1401300

रूसी बाजारों में भारतीय स्टोर्स खोलने पर विचार, ब्रिक्स देशों के साथ अंतरराष्ट्रीय लेनदेन के नए विकल्प होंगे विकसित: पुतिन

23-24 जून को चीन वर्चुअल मोड से 14वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आयोजन करने जा रहा है। भारत में मौजूद रूसी दूतावास सम्मेलन में भाग लेने वाले देश मौजूदा वैश्विक मुद्दों की समीक्षा करेंगे और प्रमुख समझौतों पर पहुंचेंगे। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (President Xi Jinping invitation to PM Modi) के निमंत्रण पर इस बीच प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी भी 14वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन (14th BRICS summit) में वर्चुअल मोड में हिस्सा लेंगे। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में जानकारी देते हुए बताया कि सम्मेलन में 24 जून को अतिथि देशों के साथ वैश्विक विकास पर एक उच्च स्तरीय वार्ता का आयोजन किया जाएगा।

Geetika Sharma
Geetika Sharma23 Jun, 2022
President Putin inaugural video address at 14th BRICS summit

 

पुतिन ने दिया वीडियो संबोधन-
इसके चलते राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बुधवार को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में शामिल देशों को अपने शुरुआती वीडियो संबोधन में कहा कि रूस अपने विश्वसनीय अंतरराष्ट्रीय भागीदार देशों ब्राजील, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के लिए व्यापार का तरीका (Russia rerouting trade to India) बदल रहा है। क्योंकि पश्चिम देश रूस के साथ आर्थिक संबंधों को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। ब्रिक्स का मतलब संक्षिप्त पांच विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के एक अनौपचारिक समूह को बतलाता है। पुतिन के अनुसार रूस और ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार (trade between Russia and BRICS countries) में 38% की वृद्धि हुई और साल के पहले तीन महीनों में यह व्यापार 45 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है।

रूस में भारतीय व्यापार को बढ़ावा-
पुतिन ने कहा कि रूसी व्यापार मंडलों और ब्रिक्स देशों (BRICS countries) के व्यापारिक समुदाय के बीच संपर्क में बढ़ोतरी हुई है। रूस में भारतीय चेन स्टोर (Indian stores in Russian markets) खोलने के लिए बातचीत चल रही है और रूस के बाजारों में चीनी कारों, उपकरणों और हार्डवेयर की हिस्सेदारी को बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। साथ ही चीन और भारत के लिए रूस तेल के निर्यात में तेजी लाएगा। इसके अलावा मई में रूस से चीन का कच्चे तेल का आयात (China crude imports from Russia) रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया, जिसके चलते सऊदी अरब तेल का सबसे ज्यादा आयात करने वाले देशों के रूप से बाहर हो गया है।

लेनदेन के नए तरीके खोज रहा रूस-
पुतिन ने कहा कि रूस का सिस्टम पांच देशों के बैंकों को जोड़ने के लिए वित्तीय संस्थानों के बीच संदेश भेजने के लिए खुला है। इसके अलावा मॉस्को डॉलर या यूरो करेंसी पर निर्भर न होकर लेनदेन के नए तरीके खोज रहा है। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स देशों (BRICS partners) के साथ मिलकर हम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लेनदेन करने के लिए विश्वसनीय वैकल्पिक तरीका विकसित कर रहे हैं। पुतिन ने अपने संबोधन में पश्चिमी देशों पर बाजार अर्थव्यवस्था के बुनियादी सिद्धांतों (basic principles of market economy) को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया। इससे वैश्विक स्तर पर व्यापार में रुचि कमजोर हुई है। यूक्रेन पर आक्रमण के बाद से विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के प्रमुखों के साथ ये पुतिन का पहला अंतरराष्ट्रीय मंच (Putin first international forum after Ukraine Invasion) है।

BRICS SUMMIT 2022

ब्रिक्स प्लस में बोलेंगे पुतिन-
दूतावास ने कहा कि ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के नेता विविध राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और मानवीय सहयोग की स्थिति पर चर्चा करेंगे। वर्तमान अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मुद्दों की समीक्षा पर भी चर्चा करने की योजना है। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की अंतिम घोषणा प्रमुख समझौतों को औपचारिक रूप देगी। 24 जून को व्लादिमीर पुतिन ‘ब्रिक्स प्लस’ (Vladimir Putin in BRICS Plus) सत्र में भी बोलेंगे, जिसमें कई आमंत्रित देशों के नेता शामिल होंगे। 23 मई को संयुक्त अरब अमीरात, सऊदी अरब, मिस्र, कजाकिस्तान, इंडोनेशिया, अर्जेंटीना, नाइजीरिया, सेनेगल और थाईलैंड के मंत्रियों के साथ एक मुख्य बैठक के रूप में एक ब्रिक्स प्लस आभासी सम्मेलन (BRICS Plus virtual conference) आयोजित किया गया था।

इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा-
14 वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन (BRICS Summit) के दौरान आतंकवाद, व्यापार, स्वास्थ्य, पारंपरिक चिकित्सा, पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और नवाचार, कृषि, तकनीकी और व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण, और एमएसएमई जैसे क्षेत्रों में इंट्रा-ब्रिक्स सहयोग को शामिल करने पर चर्चा की जाएगी। इसके अलावा कोरोना महामारी का मुकाबला करने और वैश्विक अर्थव्यवस्था के सुधार (global economic recovery after Covid) जैसे मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है। ब्रिक्स सम्मेलन उच्च गुणवत्ता वाली ब्रिक्स साझेदारी को बढ़ावा और वैश्विक विकास के लिए एक नए युग में प्रवेश के विषय के तहत वर्चुअल रूप से आयोजित किया जाएगा।

Read Comments

    Post a comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    CAPTCHA
    Refresh