Menu
blogid : 319 postid : 1397704

पुरस्कारों की झड़ी लगा गए इरफान खान, नेशनल से लेकर इंटरनेशनल अवॉर्ड का ढेर लगा

Rizwan Noor Khan

29 Apr, 2020

बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाले अभिनेता इरफान खान इस दुनिया को अलविदा कह गए हैं। वह अपने पीछे पुरस्कारों का ढेर छोड़ गए हैं। यह पुरस्कार बताते हैं कि इरफान कितनी बड़ी शख्सियत के मालिक थे। इरफान खान भारत सरकार से मिले चौथे सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान पद्मश्री से लेकर दर्जनों अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों का ढेर अपने पीछे छोड़ गए हैं।

 

 

 

 

जयपुर में जन्म मुंबई में निधन
जयपुर में 07 जनवरी 1967 को जन्मे इरफान खान का गंभीर बीमारी के चलते 29 अप्रैल की दोपहर को मुंबई के को​किलाबेन अस्पताल में निधन हो चुका है। वह अभी मात्र 53 साल के थे। वह अपने पीछे पत्नी सुतापा और दो बच्चों को छोड़ गए हैं। इरफान खान की अंतिम फिल्म अंग्रेजी मीडियम कुछ वक्त पहले ही रिलीज हुई थी।

 

 

 

एक नजर में अवॉर्ड
टाइम्स आफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार इरफान खान को राष्ट्रीय स्तर के कुल 9 अवॉर्ड हासिल हो चुके हैं। इनमें से दो नेशनल फिल्म अवॉर्ड, 4 फिल्मफेयर अवॉर्ड और 3 आइफा अवॉर्ड शामिल हैं। इसके अलावा 7 अंतरराष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड भी हैं। जी सिने, स्टारडस्ट अवॉर्ड जैसे 11 पुरस्कार भी मिले हैं। जबकि, भारत सरकार ने पद्मश्री सम्मान से भी इरफान को नवाजा है।

 

 

 

 

 

2004 में दो पुरस्कार
इरफान खान अपने अभिनय के दम पर फिल्म को हिट कराने का माद्दा रखते थे। उन्हें किसी फिल्म के लिए पहला पुरस्कार 2004 में मिला था। यह पुरस्कार फिल्म हासिल के लिए बेस्ट एक्टर इन निगेटि​व रोल फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था। निगेटिव रोल के लिए स्क्रीन अवॉर्ड भी मिला था।

 

 

 

2008 में 5 अवॉर्ड
2008 में इरफान खान को फिल्म लाइफ इन ए मेट्रो के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था। इसी फिल्म के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर इन कॉमिक रोल का आईफा अवॉर्ड और कॉमेडी के लिए स्क्रीन अवॉर्ड भी हासिल हुआ था। इसी साल हॉलीवुड फिल्म स्लमडॉग मि​लेनियर के लिए स्क्रीन एक्टर गिल्ड अवॉर्ड और अंतरराष्ट्रीय ओहियो फिल्म क्रिटिक अवॉर्ड भी मिला था।

 

 

 

 

 

2011 में पद्म श्री और आइफा
2011 में भारत सरकार ने कला के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान के लिए इरफान को चौथे सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजा था। इसके तहत इरफान को ताम्रपत्र शॉल और स्मृति चिन्ह भेंट किया गया था। इसी वर्ष अंतरराष्ट्रीय सिनेमा में अचीवमेंट के लिए आइफा पुरस्कार भी इरफान को हासिल हुआ था।

 

 

 

2013 में नेशनल समेत 4 अवॉर्ड
2013 में फिल्म पान सिंह तोमर के लिए इरफान खान को बेस्ट एक्टर का पहला नेशनल अवॉर्ड हासिल हुआ था। इसके अलावा इसी फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर क्रिटिक्स का फिल्मफेयर पुरस्कार हासिल हुआ था। इसी फिल्म के लिए दो पुरस्कार और मिले थे। इससे पहले 2012 में इरफान को इंटरटेनमेंट के लिए सीएनएन आईबीएन आफ द ईयर अवॉर्ड मिल चुका था।

 

 

 

 

2014 में अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों की झड़ी लगी
इरफान को 2014 में लंचबॉक्स के लिए तीन अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार हासिल हुए थे। इनमें एशियन फिल्म अवॉर्ड, एशिया पेशिफिक फिल्म अवॉर्ड, दुबई इंटरनेशनल फिल्म अवॉर्ड मिला था। इसी फिल्म के लिए प्रोड्यूर्स गिल्ड की ओर से दो अवॉर्ड और एक स्क्रीन अवॉर्ड भी हासिल हुआ था।

 

 

 

पीकू और तलवार के लिए 5 अवॉर्ड
2016 में फिल्म पीकू और तलवार के लिए स्टार स्क्रीन, स्टारडस्ट, जी सिने अवॉर्ड हासिल हुए। जबकि पीकू के लिए अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल मेलबर्न से अवॉर्ड भी मिला। 2017 में दुबई फिल्म फेस्टिवल में सिनेमा के लिए हॉनररी अवॉर्ड से नवाजा गया।

 

 

 

 

हिंदी मीडियम के 4 अवॉर्ड, अंग्रेजी मीडियम अंतिम फिल्म
2018 में हिंदी मीडियम के लिए बेस्ट एक्टर का फिल्मफेयर और आईफा अवॉर्ड मिला। इसके अलावा 2 अवॉर्ड और हासिल हुए। 13 मार्च 2020 को इरफान खान की अंतिम फिल्म अंग्रेजी मीडियम रिलीज हुई। इसे दर्शकों का खूब प्यार मिला है। फैंस को उम्मीद है कि इस फिल्म के लिए भी इरफान को मरणोपरांत अवॉर्ड जरूर हासिल होगा।…NEXT

 

 

 

Read More:

मां की मौत के गम से उबर नहीं सके इरफान खान, 4 दिन बाद मुंबई में आखिरी सांस ली

15 की उम्र में दुनिया से चली गई हॉलीवुड की ‘क्‍वीन ऑफ काटवे’ निकिता

बॉलीवुड पर कोरोना वायरस का साया, इन फिल्‍मों की रिलीज रुकी और शूटिंग रद

सलमान खान ने जूठे बर्तन धोये और गंदा टॉयलेट साफ किया तो कलाकार शर्म से जोड़ने लगे हाथ

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *