Menu
blogid : 319 postid : 1392240

हिन्दी साहित्य पर बनी वो यादगार फिल्में, जिन्हें आपको एक बार तो जरूर देना चाहिए

Shilpi Singh

12 Sep, 2018

14 सितंबर को हिन्दी दिवस के तौर पर मनाया जाता है और बॉलीवुड में कई फिल्म निर्देशकों ने हिन्दी के लोकप्रिय उपन्यासों और कहानियों को पर्दे पर उतारने की कोशिश की है। आज भले ही फिल्मों में साहित्य की झलक कम हो रही हो, लेकिन एक दौर में हिन्दी साहित्य पर कुछ ऐसी फिल्में बनी जो आज भी याद की जाती हैं। तो चलिए, एक नजर उन बेमिसाल फिल्मों पर जो बनी इतिहास का हिस्सा।

 

 

 

1. तमस

 

 

भीष्म साहनी के बंटवारे पर लिखे गए कालजयी उपन्यास तमस पर इसी नाम से गोविंद निहलानी ने चार घंटे से ज्यादा की फिल्म बनाई थी। इस पर टीवी सीरियल भी बनाया गया। ये फिल्म भी उपन्यास की तरह ही दर्शकों को अंदर तक झकझोरने में सफल रही। इसमें एके हंगल और ओम पुरी लीड रोल में हैं।

 

2. गोदान

 

 

मुंशी प्रेमचंद के बेहद लोकप्रिय उपन्यास गोदान पर सबसे पहले 1963 में फिल्म बनी थी। इसमें राजकुमार और महमूद मुख्य भूमिका में थे। इस कहानी को 2004 में 26 एपिसोड की टीवी सीरीज ‘तहरीर मुंशी प्रेमचंद’ में भी शामिल किया गया था।

 

3. शतरंज के खिलाड़ी

 

 

मुंशी प्रेमचंद की कहानी शतरंज के खिलाड़ी पर ‘द चेस प्लेयर्स’ नाम से सत्यजीत रे ने फिल्म बनाई थी। इसकी कहानी 1957 के ब्रिटिश भारत की पृष्ठभूमि पर है। फिल्म में मुख्य भूमिका में संजीव कुमार और शबाना आजमी हैं।

 

4. गबन

 

 

मुंशी प्रेमचंद के कालजयी उपन्यास ‘गबन’ पर 1966 में ऋषिकेश मुखर्जी ने इसी नाम से फिल्म बनाई थी। इसमें सुनील दत्त और साधना लीड रोल में हैं। इस फिल्म के गीत लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी ने गाए थे। दर्शकों में फिल्मों को भी काफी सराहना मिली।

 

5. तीसरी कसम

 

 

राज कपूर और वहीदा रहमान की ये फिल्म फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी ‘मारे गए गुलफाम’ पर आधारित है। इसे शैलेंद्र ने प्रोड्यूस किया था और बासु भट्टाचार्य ने निर्देशित। ये फिल्म सफल नहीं हो पाई थीं, इससे शैलेंद्र काफी हताश हो गए थे।

 

6. सूरज का सातवां घोडा

 

 

धर्मवीर भारती के इस उपन्यासों को परदे पर जीवंत बनाया था श्याम बेनेगल ने, उन्होंने इसी नाम से 1992 में फिल्म बनाई थी। इसमें रजित कपूर, नीना गुप्ता और अमरीश पुरी मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म भी उपन्यास की तरह ही लोकप्रिय रही।

 

7. पति पत्नी और वो

 

 

ये फिल्म कमलेश्वर के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित है, इस फिल्म को कमलेश्वर ने ही लिखा था। इसमें मुख्य भूमिका संजीव कुमार, विद्या सिन्हा और रंजीता कौर ने निभाई है। ये फिल्म बीआर चोपड़ा ने निर्देशित की है।…Next

 

Read More:

मौनी रॉय ने ली 100 करोड़ के क्लब में एंट्री, इन एक्ट्रेस का डेब्यू भी रहा था सुपरहिट

RK स्टूडियो में बनी थीं ये सुपरहिट फिल्में, विदेशों में भी था शोमैन राजकपूर का जलवा

इस फिल्म के लिए अक्षय कुमार नहीं दीपक तिजोरी थे पहली पंसद, अब दिखते हैं ऐसे

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *