Menu
blogid : 319 postid : 1398391

हेमा मालिनी बनना चाहती थीं देवदास की पारो पर बीच में बंद करनी पड़ी फिल्म

Rizwan Noor Khan

16 Oct, 2020

मशहूर बंगाली साहित्यकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के चर्चित नॉवेल देवदास पर अब तक दर्जनों फिल्में बन चुकी हैं। 80 के दशक में देवदास नॉवेल पर बनने वाली फिल्म में हेमामालिनी पारो का किरदार निभाना चाहती थीं। धर्मेंद्र इस फिल्म में देवदास का रोल कर रहे थे। दोनों के बीच चल रहे अफेयर को भुनाने के लिए ​फिल्म देवदास की शूटिंग शुरू हुई। फिल्म का काफी हिस्सा शूट होने और दो गाने फिल्माए जाने के बाद फिल्म को बीच में ही रोक दिया गया। 16 अक्टूबर को हेमा मालिनी के जन्मदिन पर जानते हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्से।

10वीं कक्षा से ही स्टेज परफॉर्मेंस
तमिलनाडु के अम्मानकुडी में 16 अक्टूबर 1948 को जन्मी हेमा मालिनी शुरु से ही अभिनय के क्षेत्र में जाना चाहती थीं। इसीलिए उन्होंने स्कूल के दिनों से ही स्टेज परफॉर्मेंस शुरू कर दी। 10वीं कक्षा तक पहुंचते पहुंचते हेमा मालिनी को फिल्‍मों में अभिनय करने के लिए ऑफर भी मिलने लगे। वह जब 11वीं कक्षा में पहुंची तो उन्‍हें एक फिल्म में काम करने का मौका मिला। रिकॉर्ड के मुताबिक हेमा ने 1963 में तमिल फिल्म इधू साथियम और 1965 में तेलुगू फिल्म पांडव वनवासन पर्दे पर रिलीज हुईं।

सच साबित हुई राजकपूर की बात
हेमा मालिनी को अपनी दूसरी फिल्म पांडव वनवासन में ही​ चर्चित अभिनेता राजकपूर के साथ काम करने का मौका मिल गया। इस फिल्‍म में वह एक नृत्‍यांगना के किरदार में नजर आईं। हेमा मालिनी के काम को देखकर राजकपूर ने सेट पर मौजूद कलााकरों और मेकर्स के सामने कहा कि हेमामालिनी आगे चलकर बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री बनेंगी। उनकी यह बात बाद के दिनों सच साबित हुई।

देवदास में हेमा को मिला पारो का रोल
हेमा मालिनी ने 1970 में आई फिल्म तुम हंसी मैं जवां में पहली बार धर्मेंद्र के साथ काम किया। पहली फिल्म में ही दोनों में इश्क हो गया। दोनों की जोड़ी हिट हो गई और हर फिल्मकार इन दोनों की पॉपुलरिटी को भुनाने के लिए फिल्म में साइन करने लगा। 1973 में मशहूर गीतकार गुलजार ने शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के नॉवेन देवदास पर फिल्म बनाने के लिए हेमा और धर्मेंद को साइन कर लिया।

Image courtesy : Youtube

धर्मेंद को रिप्लेस करने की बात पर बंद हुई फिल्म
फिल्म में धर्मेंद्र को देवदास और हेमा मालिनी को पारो की प्रेम कहानी को जीना था। फिल्‍म में चंद्रमुखी का रोल शर्मिला टैगोर को दिया गया। फिल्म की शूटिंग शुरु हो गई और 10 दिनों का पहला शिड्यूल भी पूरा हो गया। म्यूजिक कंपोजर आरडी बर्मन ने फिल्म के दो गाने भी फिल्मा लिए। इस बीच प्रोड्यूसर्स ने फिल्म रोकने का मन बना लिया। मीडिया में ऐसी खबरें सामने आईं कि प्रोड्यूसर चाहते थे कि धर्मेंद्र की जगह राजेश खन्ना को देवदास का रोल दिया जाए। लेकिन बात नहीं बनी और फिल्म पर्दे पर आने से पहले ही बीच में बंद कर दी गई।…NEXT

 

Read More : अनूठा फिल्म फेस्टिवल, तंबू में दिखाई जाती हैं फिल्में

90 के दशक के सबसे चर्चित सुपरहीरो पर बनेंगी 3 फिल्में

लता मंगेशकर को बिना स्कूल गए मिलीं 6 डिग्रियां

16 की उम्र में आशा भोंसले ने कर ली थी शादी

17 साल तक फिल्मों पर राज करने वाली सिल्क स्मिता की मौत अभी भी रहस्य

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *