Menu
blogid : 319 postid : 1393825

सैफ की मां शर्मिला हैं 2700 करोड़ की मालकिन, बेहद दिलचस्प है लव स्टोरी

Shilpi Singh

8 Dec, 2018

भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल क्रिकेटरों में से एक मंसूर अली खान पटौदी से शायद ही कोई अंजान हो। पटौदी और शर्मिला की प्रेम कहानी से सभी वाकिफ हैं। शर्मिला जहां एक तरफ हिंदू बंगाली परिवार से थी वहीं मंसूर अली खान एक नवाब थे। पटौदी खानदान से नाम जुड़ने के बाद वह भोपाल की बेगम बन गई। शाही खानदान को शर्मिला ने बहुत अच्छे से देखा और अपने पति के जाने के बाद भी वह इस पटौदी खानदान की देखभाल बहुत अच्छे से कर रही हैं। आपको बता दें शर्मिला टैगोर के पिता गीतिंद्रनाथ टैगोर आजादी से पहले ईस्ट इंडिया कंपनी के सामित्व वाली एल्गिन मिल्स में जनरल मैनेजर के रूप में काम करते थे।

 

 

 

हिंदू बंगाली परिवार में जन्मी हैं शर्मिला

 

 

शर्मिला टैगोर का जन्म हैदराबाद, आंध्र प्रदेश, भारत में एक हिंदू बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिताजी गितिन्द्रनाथ टैगोर एल्गिन मिल्स के ब्रिटिश इंडिया कंपनी के मालिक के महाप्रबंधक थे। टैगोर सेंट जॉन्स डिक्सन गर्ल्स हायर सेकेंडरी स्कूल और लॉरेटो कॉन्वेंट, आसनसोल में भाग लिया। जब उसने 13 साल की एक स्कूली छात्रा थी, तब उसने अपनी पहली फिल्म बनाई, जिसके बाद उनकी पढ़ाई को प्राथमिकता मिली और उसने कभी स्कूल खत्म नहीं किया।

 

दी वर्ल्ड ऑफ अपू से की थी शुरुआत

 

 

टैगोर ने सत्यजीत रे की 1959 की बंगाली फिल्म अपुर संसार (दी वर्ल्ड ऑफ अपू) में एक अभिनेत्री के रूप में अपना करिअर शुरू किया। 964 में शक्ति सामंत की कश्मीर की कली में अभिनय किया। जिसमें ए इवनिंग इन पेरिस (1 9 67) शामिल है, जिसमें वह एक बिकनी में आने वाली पहली भारतीय अभिनेत्री थीं।

 

2700 करोड़ की प्रापर्टी की हैं मालकिन

 

 

पटौदी परिवार की कमान अब शर्मिला के पास है. शाही संपत्ति को शर्मिला और उनकी बेटी संभालती हैं।. यह शायद शर्मिला को भी मुंह जबानी नहीं पता होगा कि उनकी कुल संपत्ति कितनी है। एक अनुमान के मुताबिक 2700 करोड़ की प्रापर्टी से भी अधिक नवाब खानदान की प्रापर्टी है। इनमें से अधिकतर हवेलियां हैं, जिनके दाम करोड़ों में है। लेकिन इन सम्पत्तियों के बारे में कई विवाद भी है। सैफ की बहन सबा अली खान अपनी मां की कुल 2700 करोड़ की प्रापर्टी की देखभाल करती हैं।

 

शर्मिला से पहली मुलाकात और प्रपोज करने का नायाब तरीका

 

 

1967 में ‘एन इवनिंग इन पेरिस’फिल्म में शर्मिला ने बिकिनी पहनी और फिल्मफेयर मैगजीन के लिए शूट करवाया। उन दिनों बिकनी पहनना बहुत ही बोल्ड माना जाता था। शर्मिला और मंसूर की पहली मुलाकात एक पार्टी में हुई। दोनों के दोस्तों ने एक-दूसरे को मिलवाया था, पहली मुलाकात के बाद शर्मिला और मंसूर करीब आने लगे।

 

मंसूर ने शर्मिला को भेजे 7 रेफ्रीजरेटर

 

 

मंसूर को शर्मिला इतनी पसंद थी कि वो उन्हें प्रपोज करने से खुद को नहीं रोक पाए। टाइगर ने शर्मिला के लिए ऐसा तोहफा भेजा। जो शायद ही मुहब्बत में किसी ने भेजा हो। उन्होंने शर्मिला को एक के बाद एक 7 रेफ्रीजरेटर भेजे। ये बात मंसूर-शर्मिला की बेटी सोहा अली खान ने एक मीडिया इंटरव्यू में बताई थी।

 

4 बार भेजे गुलाब

 

 

शर्मिला को मंहगे तोहफे से पाना इतना आसान नहीं था, तो दूसरी तरफ मंसूर भी कहां हार मानने वाले थे। उन्होंने शर्मिला को 4 बार गुलाब भेजकर प्रपोज किया, अब शर्मिला उनकी मुहब्बत में गिरफ्तार हो गई और हां कर दी। दोनों की शादी में काफी अड़चनें भी आई लेकिन दोनों एक-दूसरे का साथ निभाने की कसम खा चुके थे। शर्मिला ने मंसूर से शादी करने के लिए अपना नाम बदलकर आयशा सुल्तान रख लिया, लेकिन दुनिया आज भी उन्हें शर्मिला टैगोर के नाम से जानती हैं।…Next

 

Read More:

प्रियंका के लहंगे को बनने में लगे इतने घंटे, गाउन का वेल था 75 फीट लंबा एम्ब्रॉयडी में लगे 1826 घंटे

साउथ की फिल्मों की लाइफ थीं सिल्क स्मिता, पंखे से झूलती हुई थी मिली लाश

बचपन में Dyslexia की बीमारी से ग्रस्त थे बोमन ईरानी, 42 की उम्र से शुरू किया था करियर

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *