Menu
blogid : 319 postid : 1398180

जूस बेचकर म्यूजिक इंडस्ट्री के टाइकून बने गुलशन कुमार की क्यों हुई थी हत्या, जानें 16 गोलियां मारकर शूटर ने किसे किया था फोन

Rizwan Noor Khan

12 Aug, 2020

 

 

संगीत की दुनिया में नाम कमाने वाले गुलशन कुमार अपने शुरुआती दिनों में पिता के साथ जूस बेचा करते थे। बाद में गुलशन कुमार मशहूर म्यूजिक कंपनी टी सीरीज के निर्माता बने। 12 अगस्त को 1997 को मुंबई के अंधेरी में गुलशन कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गुलशन कुमार को मारने वाले शूटर ने चीखें सुनाने के लिए अपने मालिक को फोन किया था।

 

 

 

 

दरियागंज में जूस बेचा और ऑडियो कैसेट भी
दिल्ली के दरियागंज इलाके में 5 मई 1956 गुलशन कुमार बचपन के दिनों से ही बेहद महत्वाकांक्षी रहे। किशोरावस्था के दौरान वह अपने पिता के फ्रूट जूस काम में हाथ बंटाने के लिए खुद भी जूस बेचा करते थे। पंजाबी फैमिली के गुलशन कुमार जब बड़े हुए तो उन्होंने आडियो कैसेट बेचने का काम शुरू किया। ऑडियो कैसेट का धंधा जम गया। लोगों की मांग को देखते हुए उन्होंने खुद कैसेट बनाने का काम शुरू कर दिया।

 

 

 

म्यूजिक कंपनी और बॉलीवुड से जुड़ाव
गुलशन कुमार ने कारोबार बढ़ने पर दिल्ली से निकलकर 1970 में नोएडा में आडियो कैसेट बनाने के लिए म्यूजिक कंपनी खोली और उसका नाम सुपर कैसेट्स इंडस्ट्री रखा। बाद में बॉलीवुड से जुड़ने के लिए वह मुंबई पहुंच गए। यहां आकर उन्होंने अपनी कंपनी का नाम बदलकर टी सीरीज कर दिया। वह बॉलीवुड सिंगर्स के साथ मिलकर काम करने लगे। उनके रीमि​क्स गानों की कैसेट्स की लोगों के बीच धूम मच गई।

 

 

 

 

भजनों से शोहरत मिलने पर अंडरवर्ल्ड की नजर में आए
गुलशन कुमार ने खुद के गाए भजनों की कैसेट्स बाजार में उतारे। 80—90 के दशक में उनकी कैसेट और भजन घर घर पहुंच गए। गुलशन कुमार का सिक्का म्यूजिक इंडस्ट्री में जम गया और वह एक बड़ा नाम बन गए। इस बीच गुलशन कुमार पर अंडरवर्ल्ड की नजर पड़ गई। मुंबई के चर्चित जर्नलिस्ट रहे एस हुसैन जैदी ने अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम पर लिखी अपनी पुस्तक माई नेम इज अबू सलेम में जिक्र किया है अबू सलेम ने गुलशन कुमार से रंगदारी मांगी थी।

 

 

S Hussain Zaidi Book My Name Is Abu Salem.

 

 

डॉन अबू सलेम ने जान के बदले 10 करोड़ मांगे
एस हुसैन जैदी की किताब माई नेम इज अबू सलेम में जिक्र है कि अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम ने गुलशन कुमार को जान के बदले 10 करोड़ देने को कहा था। गुलशन कुमार ने कहा कि रुपये उसे देने के बजाय उन रुपयों से वह जम्मू में वैष्णों माता के मंदिर में भंडारा कराएंगे। जम्मू में आज भी गुलशन कुमार के नाम से भंडारा चलता है।

 

 

 

 

 

अबू सलेम ने सुनी थीं गुलशन कुमार की चीखें
रंगदारी नहीं देने पर अबू सलेम के शूटर राजा ने 12 अगस्त 1997 को मुंबई के अंधेरी इलाके में गुलशन कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या के वक्त गुलशन कुमार जीतेश्वर महादेव मंदिर में पूजा करने के बाद लौट रहे थे। तभी शूटर राजा ने गुलशन कुमार के शरीर में 16 गोलियां दाग दी थीं। उसने अबू सलेम को गुलशन कुमार की चीखें सुनाने के लिए फोन भी किया और 10 मिनट तक आन रखा था। इस घटना का जिक्र भी माई नेम इज अबू सलेम किताब में किया गया है।…NEXT

 

 

 

Read More:

सुशांत सिंह राजपूत के खाते से निकाले गए 15 करोड़ रुपये, अभिनेत्री रिया और उनके भाई पर शक

सुशांत सिंह राजपूत की एक और फैन ने जान दी, एक महीने में 4 टीनएजर्स ने लगाई फांसी

सुशांत सिंह राजपूत के हमशक्ल को मिली फिल्म, सुशांत ​की जिंदगी पर बनने वाली फिल्म में बनेंगे सुशांत

ओटीटी प्लेटफॉर्म पर मूवी रिलीज करने की होड़, हॉटस्टार के बाद नेटफ्लिक्स ने जारी की मूवी लिस्ट

कनिका कपूर से शुरू हुआ कोरोना अमिताभ बच्चन तक पहुंचा, ये 10 सेलीब्रिटीज हो चुके हैं कोरोना पॉजिटिव

लगातार 500 कुश्तियां जीतने वाले दारा सिंह के इश्क और किंगकांग की मूछें उखाड़ने के किस्से

 

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *