Menu
blogid : 319 postid : 675367

पत्नी से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ और नहीं

पत्नी के ईर्द-गिर्द ही अपनी दुनिया बसा लेने वाले पतियों की कमी नहीं है बॉलीवुड में पर शायद ही कोई इनके जैसा हो. इन्होंने अपनी पत्नी की जिंदगी में खुशियों के रंग तो भरे ही और साथ ही शादी के कई सालों बाद भी अपनी पत्नी को पहले दिन जैसा प्यार दिया. यहां बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अनिल कपूर की बात हो रही है.


pink panther 6 030209

वास्तव में यह सच है कि अनिल कपूर अपनी निजी जिंदगी से ज्यादा अपने काम को अहमियत देते हैं पर जब उनकी पत्नी सुनीता का सवाल आता है, तो ऐसे में वो अपने काम को दरकिनार करके अपनी पत्नी को महत्व देते हैं. कुछ समय पहले की बात है जब अनिल कपूर पिछले कुछ महीने से अपने होम प्रोडक्शन टीवी शो ’24’ की नॉन-स्टॉप शूटिंग में व्यस्त थे. उस दौरान अनिल कपूर की दोनों बेटियां सोनम और रिया भी घर में समय नहीं दे पा रही थीं. ऐसे में अनिल को हर समय अपनी पत्नी सुनीता की चिंता लगी रहती थी क्योंकि उनकी पत्नी को तन्हां रहना जरा भी पसंद नहीं है. अंत में जाकर अनिल कपूर ने यह निर्णय लिया कि वो टीवी शो ’24’ की शूटिंग के बाद किसी भी कीमत पर जल्द से जल्द घर पहुंचने की कोशिश किया करेंगे और ऐसा हुआ भी. अनिल कपूर के प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि भी की थी कि वो शूटिंग के खत्म होते ही अपनी पत्नी सुनीता के लिए जल्द से जल्द घर पहुंचते हैं.

ना जाने कौन सा जादू था उनकी प्रेम कहानी में


24 दिसंबर को अनिल कपूर का जन्मदिन है और उनकी फिल्मी कामयाबी का जिक्र करने से पहले उस व्यक्ति का नाम लेना जरूरी है जिन्होंने साल 1984 से लेकर आज तक उनका साथ निभाया. अनिल कपूर की पत्नी सुनीता कपूर अनिल कपूर के शुरुआती फिल्मी कॅरियर से लेकर आज तक उनका साथ निभा रही हैं. अनिल कपूर ने साल 1979 में आई उमेश मेहरा की फिल्म ‘हमारे तुम्हारे’ के साथ एक सहायक की भूमिका में बॉलीवुड में अपने सफर की शुरुआत की. इसके बाद अनिल कपूर ने बॉलीवुड की फिल्मों के कुछ मामूली रोल ही किए. साल 1983 में आई फिल्म ‘वो सात दिन’ में अनिल कपूर को मुख्य भूमिका निभाने का मौका मिला.


इसके बाद अनिल कपूर के फिल्मी कॅरियर को उड़ान मिलने लगी. कर्मा, मिस्टर इंडिया, तेजाब, राम लखन जैसी फिल्मों ने अनिल कपूर को स्टारडम की ऊंचाइयों पर पहुंचा दिया. अनिल कपूर ने अपने शानदार अभिनय के बल पर कई फिल्म पुरस्कार भी जीते. इन्हें दो बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिया गया. पहला 2001 में ‘पुकार’ फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार और साल 2008 में ‘गांधी माय फादर’ के लिए स्पेशल ज्यूरी अवार्ड दिया गया. आज भी अनिल कपूर के फैंस की लिस्ट में कोई कमी नहीं हुई है इसका अच्छा-खासा उदाहरण उनके टीवी शो ‘24’ की टीआरपी को देखने से मिलता है.


अनसुनी इस प्रेम कहानी को सलाम

खूबसूरत बन कर दिखाएंगी सोनम

इस बाला ने अपनी कीमत 2.8 करोड़ लगाई


anil kapoor lifestyle

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *