Menu
blogid : 319 postid : 1400813

अमरीश पुरी के लिए टर्निंग प्वाइंट बनी थी फिल्म रेशमा और शेरा, इन 10 किरदारों ने दिलाई थी पॉपुलैरिटी

फिल्‍मों में खूंखार विलेन और दमदार अफसर और सख्‍त प‍िता के किरदार न‍िभाकर दर्शकों के द‍िलों में राज करने वाले मशहूर अभिनेता अमरीश पुरी आज भी लोगों के द‍िलों में ज‍िंदा हैं। आज ही के द‍िन 17 साल पहले 2005 में अमरीश पुरी ने 72 साल की उम्र में इस दुन‍िया को अलविदा कहा था। अभिनय के लिए जुनूनी अमरीश पुरी ने अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी थी। उन्‍हें करीब 40 की उम्र में पहली बड़ी फिल्म और अच्छा रोल मिला था। अमरीश पुरी की पुण्यतिथि पर जानते हैं उनके मशहूर किरदारों फ‍िल्‍मी सफर के बारे में।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 12 Jan, 2022

 

 

जालंधर में जन्‍मे और थिएटर के जर‍िए मुंबई पहुंचे- 
पंजाब में जालंधर के नवांशहर में 22 जून 1932 को जन्मे अमरीश पुरी पढ़ने में होशियार थे। उनका पूरा नाम अमरीश लाल पुरी थी। शिमला के बी एम कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के दौरान उनका झुकाव अभिनय की ओर चला गया और थिएटर में काम करने लगे। इस बीच उन्हें कर्मचारी राज्य बीमा निगम में नौकरी मिल गई।

सरकारी नौकरी छोड़कर फ‍िल्‍मों में उतरे- 
अभिनय के जुनून ने अमरीश पुरी को नौकरी के खांचे से बाहर निकलने पर मजबूर कर दिया। वह नौकरी के साथ साथ थिएटर भी करते रहे और किसी अच्छे रोल और मौके के इंतजार किया। अमरीश पुरी को उनके मित्र फिल्म डायरेक्टर सुखदेव ने सुनील दत्त की फिल्म रेशमा और शेरा में मौका दिलाया। फिल्म मिलने पर अमरीश पुरी ने करीब 20 साल की सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे दिया। उस वक्त वह ए ग्रेड के अफसर हो चुके थे।

400 से ज्यादा फिल्मों में दमदार अभ‍िनय- 
1971 में रिलीज हुई फिल्म रेशमा और शेरा में अमरीश पुरी रहमत खान की भूमिका में दिखाई दिए थे। हालाकि, इससे पहले 1970 में अमरीश पुरी के छोटे रोल वाली फिल्म प्रेम पुजारी रिलीज हो चुकी थी। लेकिन, उन्हें पहचान फिल्म रेशमा और शेरा से हासिल हुई। अमरीश पुरी ने 400 से ज्यादा फिल्मों में अहम भूमिकाएं निभाईं। ज्यदातर फिल्मों में वह पिता और विलेन की भूमिका में नजर आए। अमरीश पुरी को उनके शानदार अभिनय के लिए 3 फिल्मफेयर समेत दर्जनों अवॉर्ड हासिल हुए।

 

 

अमरीश पुरी के कभी नहीं भू​लने वाले 10 किरदार- 
भैरोंनाथ- फिल्‍म नागिन में अमरीश पुरी ने तांत्रिक बाबा भैरोनाथ का किरदार निभाया था।
मोगैंबो- फिल्‍म मिस्‍टर इंडिया में मोगैंबो का किरदार निभाया था। मोगैबो खुश हुआ डायलॉग कोई नहीं भूल सकता।
जनरल डोंग- फिल्‍म तहलका में अलग देश डांगरीला बसाकर जुल्‍म करने वाले जनरल डोंग का किरदार।
चुनिया मामा- फिल्म सौदागर में दो दोस्‍तों के बीच फूट डालने वाले चुनिया मामा को शायद ही कोई भूल पाए।
बैरिस्‍टर चड्ढा- फिल्‍म दामिनी के गुस्‍सैल बैरिस्‍टर इंद्रजीत चड्ढा का किरदार।
चौधरी बलदेव सिंह- फिल्म दिलवाले दुल्‍हनिया ले जाएंगे में कड़क पिता चौधरी बलदेव सिंह का यादगार किरदार।
किशोरीलाल- फिल्‍म परदेस में अच्छा पिता बनने की कोशिश करने वाले किशोरी लाल का शानदार किरदार।
राजा साहब- फिल्‍म कोयला में खतरनाक विलेन राजा साहब का किरदार।
अशरफ अली- फिल्‍म गदर में अमरीश पुरी के अशरफ अली किरदार को शायद ही कोई भूल पाए।
बलराज चौहान- फिल्‍म नायक में भ्रष्ट राजनेता बलराज चौहान का किरदार।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *