Menu
blogid : 319 postid : 1397898

फिल्मों के लिए अमरीश पुरी ने छोड़ी थी सरकारी नौकरी, उम्र का ताना देने वालों को मोगैंबो ने ऐसे दिया जवाब

Rizwan Noor Khan

22 Jun, 2020

 

 

बॉलीवुड के सबसे शानदार अदाकारों में शुमार अभिनेता अमरीश पुरी के फिल्मों में आने का किस्सा खास रोचक है। बॉलीवुड में आने से पहले उनकी जिंदगी ने कई उतार चढ़ाव देखे। सरकारी नौकरी छोड़ने और बढ़ती उम्र को लेकर उनके करीबियों ने उन्हें खूब ताने दिए। लेकिन, अमरीश पुरी के जुनून ने कुछ ही दिनों सबको माकूल जवाब दे दिया। उनके जन्मदिन पर जानते हैं कुछ रोचक किस्से।

 

 

 

 

नौकरी मिली पर सपने एक्टर बनने के
पंजाब के नवांशहर में 22 जून 1932 को जन्मे अमरीश लाल पुरी ​शुरुआत से ही फिल्मों के दीवाने थे। पढ़ाई में अव्वल रहने वाले अमरीश पुरी ने शिमला के बीएम कॉलेज से ग्रेजुएशन किया। पढ़ाई पूरी करते ही उन्हें कर्मचारी राज्य बीमा निगम में नौकरी मिल गई। लेकिन फिल्मों में काम करने का उनका ख्वाब उन्हें सोने नहीं देता था।

 

 

 

 

थिएटर से आने लगे बड़े बडे आफर
नौकरी के दौरान ही वह थिएटर से जुड़ गए और नाटकों में अभिनय करने लगे। उनके अभिनय के लिए खूब प्रशंसा हासिल की और बड़े बड़े नाटकों के लिए आफर आने लगे। इस बीच अमरीश पुरी ने नौकरी छोड़ पूरा समय फिल्मों को देने के लिए सोचने लगे। लेकिन, उनके करीबियों ने फिल्म मिलने तक नौकरी नहीं छोड़ने की सलाह दी।

 

 

 

 

21 साल की नौकरी छोड़ी
1971 में रिलीज हुई फिल्म रेशमा और शेरा के लिए अमरीश पुरी सेलेक्ट कर लिए गए। अमरीश पुरी की यह पहली फिल्म थी। फिल्म मिलते ही अमरीश पुरी ने अपनी 21 साल की सरकारी नौकरी से इस्तीफा दे दिया और पूरी तरह फिल्मों में जुट गए। रेशमा और शेरा फिल्म में उन्होंने पहली बार सुनील दत्त, विनोद खन्ना, अमिताभ बच्चन और वहीदा रहमान के साथ काम किया।

 

 

 

 

40 की उम्र में ​किया डेब्यू
अपनी नौकरी में ए ग्रेड अफसर हो चुके अमरीश पुरी के नौकरी छोड़ने की बात जब उनके करीबियों को पता चली तो सब खूब नाराज हुए। अमरीश पुरी की 40 साल की उम्र को लेकर भी खूब ताने दिए गए। अमरीश पुरी ने अपनी पहली फिल्म से ही दर्शकों के दिलों में जगह बना ली और उनके अभिनय की खूब तारीफ हुई।

 

 

 

 

बॉलीवुड से हॉलीवुड तक छाए
1987 में शेखर कपूर की फिल्म मिस्टर इंडिया में उनके किरदार मोगैंबो ने दुनियाभर में अपनी छाप छोड़ दी। अमरीश पुरी ने इसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और फिल्मी दुनिया के सबसे बड़े विलेन के तौर पहचान बना ली। एक समय ऐसा आया कि वह हीरो से भी ज्यादा फीस लेने वाले एक्टर बन गए। लोकप्रियता के बाद उनकी उम्र को लेकर आलोचकों का मुंह बंद हो गया।

 

 

 

 

450 से ज्यादा फिल्में और ढेरों अवॉर्ड
अमरीश पुरी ने अपने करीब 40 साल के करियर में 450 से ज्यादा फिल्में की। उन्होंने हर तरह के रोल निभाए लेकिन उन्हें विलेन के तौर पर लोगों ने ज्यादा पसंद किया। अमरीश पुरी को शुरुआती करियर में ही हॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर स्टीवन स्पीलबर्ग के साथ काम किया। 1984 में स्पीलबर्ग की फिल्म इंडियाना जोंस अमरीश पुरी ने अ​भिनय किया था। अमरीश पुरी ने 12 जनवरी 2005 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया।…NEXT

 

 

 

Read More:

बाहुबली की शिवगामी देवी ने इसलिए छोड़ा था बॉलीवुड, 22 साल बाद खोला राज

फ्लॉप फिल्म को दोबारा बनाकर हिट करा लेते थे राजकपूर

डिंपल कपाड़िया ने बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार से की थी शादी पर नहीं चला रिश्ता

मरने से पहले इतने अवॉर्ड छोड़ गए इरफान खान

बॉलीवुड पर कोरोना वायरस का साया, इन फिल्‍मों की रिलीज रुकी और शूटिंग रद

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *